एलजी ने दिया केजरीवाल को तगड़ा झटका, अब तक का सबसे बड़ा फैसला पलटा

343

वैसे तो केजरीवाल अपने आपको दिल्ली का मुख्यमंत्री कहते है और कई फैसले वो इसे भी करते है जो अपने आप में काफी ज्यादा ठीक होते है लेकिन कई फैसलों के जरिये विवाद भी खड़ा करते है जिसके चलते उनका दिल्ली के एलजी से विवाद भी हो जाता है. अब क्योंकि दिल्ली एक पूर्ण राज्य नहीं है तो इसकी सुप्रीम अथॉरिटी केजरीवाल के पास में न रहकर के एलजी के पास में रहती है और उनके पास में सीएम के फैसले को रोकने या फिर निरस्त करने के भी अधिकार है.

केजरीवाल सरकार ने दिए थे दिल्ली में बाहरी का इलाज न करने के आदेश, एलजी ने पलटा
सीएम अरविन्द केजरीवाल ने ये कहते हुए दिल्ली से बाहरी लोगो का दिल्ली में इलाज करने से मना कर दिया था कि अगर ऊनका इलाज भी यहाँ होने लगा तो यहाँ के बेड्स भर जायेंगे और लोकल लोगो के लिए जगह ही नही बचेगी. इसके बाद में इस बात पर काफी ज्यादा उनको आलोचना झेलनी पड़ी क्योंकि कई यूपी और हरियाणा के लोग इलाज के लिए दिल्ली आते रहते है और उनका काम भी यहाँ पर है तो अगर ये लोग बीमार पड़ते है तो फिर का होगा?

ऐसे में इस मामले पर एलजी ने ध्यान देते हुए केजरीवाल सरकार के इस फैसले को निरस्त कर दिया और मेडिकल अथॉरिटीज को ये आदेश दिया कि किसी का भी इलाज करने का आधार इस बात को नही बना सकते है कि वो व्यक्ति दिल्ली का है या फिर नही है? ऐसे में बात काफी साफ़ है कि अब बाकी राज्य के लोग भी अगर राजधानी में अपना इलाज करवाना चाहे तो वो करवा सकते है. उनको किसी भी तरह की कोई दिक्कत नही होगी.

हालांकि केजरीवाल को एलजी का ये फैसला पसंद नही आया है और उन्होंने तो ये तक कह दिया है कि एलजी के फैसले से दिल्ली के लोगो के लिए बड़ी प्रोब्लम खड़ी हो सकती है, लेकिन फिर भी हम सबका ट्रीटमेंट करने की कोशिश करेंगे.