8 देशो ने मिलकर बनाया चीन के खिलाफ संगठन, बौखलाया जिनपिंग

308

आज की तारीख में अगर हम लोग देखे तो चीन की हालत बड़ी ही खराब हो रही है क्योंकि पूरे विश्व में महामारी देनेके आरोप लगने के बाद उस पर अब कई मनमानी करने के आरोप लगने लगे है जिससे सारी की सारी दुनिया को नुकासान उठाना पड़ रहा है. अब कोई इसके जवाब में कुछ करेगा नही ये तो बिलकुल ही गलत फहमी है, क्योंकि चीन के खिलाफ एक बड़ा और काफी सशक्त संगठन बन चुका है जो इसको आड़े हाथो लेने के लिए अच्छी तरह से तैयार हो रहा है.

आठ देशो ने मिलकर बनाया इंटर पार्लियामेंटरी अलायन्स, चीन बोला कुछ नही कर सकोगे
चीन की लगातार मनमानी से परेशान होकर के आठ देशो के लॉ मेकर्स ने मिलकर के एक संगठन बनाया है जिसमे अमेरिका, जर्मनी, ब्रिटेन, जापान, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, नार्वे और यूरोप की संसद के सदस्य है. बात करे इनकी अध्यक्ष की तो एक तरह से इनको अमेरिका लीड कर रहा है जिसकी तरफ से सीनेटर मार्को रूबियो अध्यक्ष बनी है. इस संगठन का उद्देश्य चीन द्वारा की जा रही मनमानी पर नकेल कसना और कही न कही सब देशो की निर्भरता व सप्लाई चैन से चीन को दूर करना बताया जा रहा है.

चीन का अखबार ग्लोबल टाइम्स इन चीजो की लगातार आलोचना कर रहा है और चीन के भी अधिकारी और एक्सपर्ट्स इस अलायन्स को फर्जी बता रहे हाही. एक ने तो ये तक का दिया कि अमेरिका सिर्फ अपना हित साधने के लिए बाकी देशो की सरकारों का और एजेंसियों का इस्तेमाल कर रहा है. चीन ने इस संगठन को ही फर्जी बता दिया और कहा कि ये 20वी सदी वाला चीन नी ई, इसे तब की तरह परेशान नही किया जा सकता है.

अब जिस तरह से गुटबाजी हो रही है ऊससे एक बात तो साफ़ हो ही जाती है कि जल्द ही कोल्ड वार अपने चरम पर होगा और इसके कारण आम लोगो को बिजनेस और नौकरियों में काफी दिक्कते देखनी पड़ सकती है.