सिर्फ एक फैसले से बुरी तरह फंस गये उद्धव ठाकरे, देवेन्द्र फडनवीस ने भी लगाये गंभीर आरोप

1477

उद्धव ठाकरे इन दिनों में काफी बुरे फंसे हुए नजर आ रहे है क्योंकि जैसे हालात महाराष्ट्र में उनकी सरकार के रहते हुए है वो इतिहास में कभी नही देखने को मिला है और वो महामारी को रोकने में भी नाकाम रहे है जिसके चलते महाराष्ट्र केसों के मामले में भी नम्बर वन बन गया है. उद्धव ठाकरे की सरकार की इतनी असफलता काफी नही थी क्या कि उन्होंने अपने ऊपर एक और विवाद जान बूझकर के ले लिया है जो अपने आप में वहाँ के सिस्टम की सुरक्षा पर भी शक पैदा कर देता है.

महाराष्ट्र सरकार ने पीएफआई को दी महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी, फडनवीस ने लगाये आरोप
दरअसल हाल ही में महाराष्ट्र में एक विवादित फैसला किया गया जिसके तहत शवो को दफ़नाने का काम पीएफआई नाम के संगठन को दिया. अब पीएफआई किस तरह का संगठन है और इस पर किस किस तरह की देश विरोधी गतिविधियां करने के आरोप लगे है ये बात किसी से छुपी नही है लेकिन इसके बावजूद महाराष्ट्र सरकार उसे अपने काम में सहयोगी बना रही है. इस संगठन को कई राज्य तो अपने यहाँ पर प्रतिबंधित करने की बात भी कर रहे है.

इस मामले पर पूर्व मुख्यमंत्री फडनवीस ने उद्धव ठाकरे पर जमकर के निशाना साधा और कहा कि इस तरह के किसी भी संगठन को काम देना अपने आप में गंभीर मामला है जिसे राष्ट्रविरोधी और असामाजिक गतिविधियों के लिए दोषी ठहराया गया हो. इस संगठन पर नागरिकता क़ानून के खिलाफ जो कुछ भी हुआ उसमे विदेशी फंडिंग लेने का भी आरोप है. कई राज्य इस पर बैन लगाने का विचार कर रहे है. ईडी ने इनके कई खातो का पता लगाया है और एनआईए उस पर जांच कर रही है.

इसके बाद में फडनवीस ने ये सवाल भी उठाया कि क्या उद्धव ठाकरे इन सबके लिए सहमत हुए है? अगर नही तो क्या इस सम्बन्ध में जिन लोगो ने ऐसा निर्णय लिया है उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी? क्या इस आदेश को पलटा जाएगा? अब ठाकरे का इस पर क्या रिस्पोंस रहता है ये देखने वाली बात होगी.