चीन को डबल टक्कर देने के लिए भारत ने ऑस्ट्रेलिया के साथ ऐतिहासिक डील साईन कर दी

262

इन दिनों में समंदर के बीच में कई देशो के मध्य खींच तान चल रही है ताकि हर कोई अपने अपने तरीके से जीत हासिल कर सके और कही न कही ये चीज ख़ास है भी. मगर चीन ने सबके साथ अति कर रखी है. चाहे वो ताइवान हो, भारत हो, वियतनाम हो, जापान हो या ऑस्ट्रेलिया हो सबके समुद्री सीमा का न सिर्फ लम्बे समय से उल्लंघन कर रहा है बल्कि अपना प्रभुत्व जमाने की कोशिश भी कर रहा. इसके खिलाफ कई देश एकजुट हो रहे है और भारत ऑस्ट्रेलिया इसमें परोक्ष रूप से एक हो गये है.

अब दोनों देश एक दुसरे के मिलिट्री बेस का इस्तेमाल कर सकेंगे, मजबूत होगी नौसेना
आज भारत और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने एक वर्चुअल मीटिंग की जिसमे दोनों ने काफी बाते की और इस दौरान दोनों ही देशो ने एक ख़ास डील साईन की है जिसके तहत भारत और ऑस्ट्रेलिया आगे के समय में एक दूसरे के मिलिट्री बेस का इस्तेमाल कर सकेंगे. इससे दोनों देशो की नौसेना की पहुँच तुरंत ही दुगुनी हो जायेगी और ये दोनों ही देश समुद्री इलाके में न सिर्फ अच्छे से नजर रख सकेंगे बल्कि चीन को कण्ट्रोल करने में भी काफी मदद मिलेगी.

इसके अलावा दोनों देशो के बीच में आपस में ट्रेड बढाने को लेकर के भी चर्चा हुई जिसके तहत दोनों ही देशो ने और भी कई डील्स साईन की है जिससे कि अच्छा ख़ासा पैसा ट्रेड के जरिये बन सकेगा. यही नही इस मीटिंग के दौरान ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने लद्दाख के मुद्दे पर खुलकर के भारत का पक्ष लिया और ये भी कहा कि वो पीएम मोदी के पास होते तो उनके साथ में समोसा खाना जरुर एन्जॉय कर रहे होते.

दोनों ही देशो के प्रधानमंत्रियो के बीच में जो ट्यूनिंग बैठ गयी है वो ऑस्ट्रेलिया और भारत के द्विपक्षीय संबंधो को मजबूत करने में काफी ज्यादा अहम भूमिका निभाएगा इस बात में कोई भी शक नही है. इससे चीन भी काफी नाराज होगा क्योंकि भारत ने उसे उसकी भाषा में जवाब देना शुरू कर दिया है.