मोदी को आया ट्रम्प का फोन और फिर ही ऐसी बात, बौखला कर चीन ने दे दिया बड़ा बयान

409

फ़िलहाल के दिनों में किस तरह की चीजे हमने बदलाव के रूप में देखी है कि भारत के परिपेक्ष में पश्चिम का सोचने का तरीका बदला है और साथ ही साथ में आज हिन्दुस्तान की जो अहमियत है वो दुनिया को समझ में आने लगी है कि अगर एशिया में चीन को दबाना है तो भारत का सहयोग बड़ा जरुरी है. अब हाल ही में जी 7 समिट को लेकर के ट्रम्प ने ऐसा ही कुछ कहा जो अपने आप में कई लोगो के लिए हैरान कर देने वाला भी था.

ट्रम्प ने मोदी को जी7 समिट के लिए आमंत्रित किया, चीन ने बताया अपने खिलाफ गुटबाजी
अब हाल ही में पीएम मोदी को एक फोन आया जो अमेरिकन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की तरफ से था जिसमे उन्होंने भारत को जी7 समिट के लिए आमंत्रित किया है. इस मीटिंग के पीछे का सबसे बड़ा कारण चीन के खिलाफ एक बड़ी आर्थिक घेरेबंदी को अंजाम देना है. ट्रम्प तो ये तक कह चुके है कि अब जी7 पुराना हो चुका है इसे जी10 या जी11 किये जाने की जरूरत है. अब अमेरिका इस ग्रुप में भारत जैसे अपने करीबी देशो को शामिल करने के बारे में प्रयास कर रहा है.

इससे चीन पर आर्थिक दबाव बढ़ जाएगा जिससे परेशान होकर के चीन के ही एक अधिकारी की तरफ से बयान दिया गया है जिसमे उसने कहा कि चीन के खिलाफ ये गुटबाजी विश्व अर्थव्यवस्था के लिहाज से ठीक नही है, हम इसका पूर्ण रूप से विरोध करते है. चीन ने ये भी कहा कि इससे बहुपक्षीय हिसाब ठीक नही रहेगा. चीन अमेरिका द्वारा किए जा रहे इन कार्यो की लगातार खुलकर के आलोचना कर रहा है जबकि अमेरिका अपने काम में लगा हुआ है.

अगर ये सब कर पाने में अमेरिका सफल हो जाता है तो फिर ये चीन का सूर्य अस्त होने की शुरुआत होगी जो पिछले कुछ दशको से उदय स्थिति में था. खैर भारत अब इसमें क्या कुछ स्टैंड लेता ये भी देखने वाली बात होगी.