केजरीवाल सरकार की हालत बिगड़ी, मदद मांगने मोदी के पास पहुंचे

119

इन दिनों दिल्ली की हालत किस कदर बिगड़ रखी है ये बात किसी से भी छुपी नही है. एक तो पहले से ही दिल्ली सरकार का खर्च और सब्सिडी जमकर के चल रहा था ऊपर से दो महीने से लॉकडाउन चल रहा था तो हालत और ज्यादा बिगड़ गयी. अब हालत ऐसी ओ गयी है कि कई कामो के लिए दिल्ली सरकार के पास में पैसा तक नही बचा है और ऐसी स्थिति में वो मोदी सरकार की तरफ ताक रहे है कि कुछ मदद मिल जाए और थोड़ी राहत तो हो.

दिल्ली में कमर्चारियो की सैलरी देने तक के पैसे की भी किल्लत, सिसोदिया ने मांगी चिट्टी लिखकर मदद
पिछले दो महीने से दिल्ली लगभग बंद ही थी जिसके चलते दिल्ली का टैक्स कलेक्शन 85 प्रतिशत तक गिर गया और अब हाल ऐसे है कि सरकार के पास में अपने कर्मचारियो को देने तक के पैसे की कमी हो गयी है या फिर आप ये भी कह सकते हो कि पैसा है ही नही. ऐसे में उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने केजरीवाल सरकार की तरफ से केंद्र को एक चिट्टी लिखी है और उनसे 5 हजार करोड़ रूपये की मदद मांगी है. ये चिट्ठी निर्मला सीतारामण जी के नाम गयी है क्योंकि रूपया पैसा वही देखती है.

इस बारे में मनीष सिसोदिया ने खुद ट्वीट करके जानकारी दी है और अब दिल्ली की सरकार के पास में उम्मीद की किरण मोदी सरकार ही है कि वो कुछ पैकेज दे दे तो थोडा सा उद्धार हो जाए वरना हालत तो पतली हो ही गयी है. हालाँकि गनीमत ये है कि 8 जून से अधिकतर जगहे खुल जाएगी तो कुछ पैसा आने का रास्ता तो बनेगा जिससे राज्य की सरकारों को थोड़ी मदद मिलेगी.

सोशल मीडिया पर इस मुद्दे को लेकर के लोग केजरीवाल को कोस रहे है कि वो लोगो को फ्री बिजली जैसी चीजे बाँटते रहे और राज्य के बुरे वक्त के लिए एक कौड़ी तक नही है इससे बुरा मेनेजमेंट भला और क्या होगा? खैर केंद्र इस पर क्या जवाब देता है ये देखने वाली बात होगी.