अब यूपी के मजदूरो को अपनी मर्जी से काम पर नही रख सकेंगे बाहर के राज्य, योगी का नया ऐलान

595

अब तक देश में मजदूरों की कोई कमी नही थी जिसे जिसे जितनी मैन पॉवर की जरूरत होती थी वो कही भी दुसरे राज्य से भी मंगा लेता था और कही न कही इसमें यूपी और बिहार का नाम सबसे आगे आता रहा है. यूपी से लाखो की करोडो की संख्या में मजदूर है जो महाराष्ट्र और गुजरात जैसे तमाम राज्यों में अपनी सेवा देते आये है लेकिन अब हाल ही में लॉक डाउन में उनके साथ में जो इन्ही राज्यों ने किया और इन्हें एक तरह से भाग जाने पर मजबूर किया गया उस पर योगी आदित्यनाथ अब सख्त हो रहे है.

अगर किसी प्रदेश को यूपी के मजदूरों की जरूरत है, लेनी पड़ेगी योगी सरकार से अनुमति
उत्तर प्रदेश की सरकार फ़िलहाल एक बहुत ही बड़ी योजना पर काम कर रही है जिसके तहत अगर कोई भी सरकार उत्तर प्रदेश के मजदूरों को अपने यहाँ काम पर रखना चाहती है तो फिर उन्हें पहले उत्तर प्रदेश की सरकार से अनुमति लेनी पड़ेगी. सरकार की देख रेख में ही उन्हें भेजा जाएगा और वो लोग काम भी करेंगे. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि अगर भविष्य में लॉक डाउन वगेरह जैसी स्थिति बने तो उनको सुरक्षित तरीके से निकाला जा सके.

योगी आदित्यनाथ इसके अलावा यूपी में ही कई कम्पनियों को निमंत्रित कर रहे है और अपने प्रदेश के लोगो को यूपी में ही रोजगार दिलाने के लिए प्रयास कर रहे है ताकि उत्तर प्रदेश के लोगो को बाहर काम की तलाश में जाना ही न पड़े और अगर जाना पड़ेगा तो पहले योगी सरकार से प्रदेश की सरकार अनुमति लेगी और इसके बाद ही ऐसा हो पाएगा. ये अपने आप में एक बहुत ही बड़ा कदम होने जा रहा है.

योगी आदित्यनाथ गुस्से में तो कुछ ज्यादा ही है. हाल ही में उन्होंने उद्धव ठाकरे को भी आड़े हाथो लेते हुए कहा था कि महाराष्ट्र की सरकार अगर सौतेली माँ भी बन जाती तो इन प्रवासी मजदूरों को इस हालत में लौटना न पड़ता.