योगी आदित्यनाथ ने उद्धव ठाकरे को आड़े हाथो लिया, निशाना साधते हुए दिया बड़ा बयान

583

जब से शिवसेना दुसरे पाले में गयी है तब से ही वो बीजेपी के नेताओं के निशाने पर रहती है और ऐसा हो भी क्यों न? आखिर अपनों को दगा देकर जाने वालो से तकलीफ ज्यादा होती है. खैर अभी तो हम लोग आते है अभी हाल ही की योगी जी की बयानबाजी पर जिसमे उन्होंने उद्धव ठाकरे को पूरी तरह से आड़े हाथो ले लिया और साथ ही साथ में संजय राउत पर भी जमकर के निशाना साधा और ऐसा साधा कि बस हाल ही पूरी तरह से खराब कर दिया है.

महाराष्ट्र की सरकार सौतेली माँ ही बन जाती तो ये मजदूर वापिस न आते
संजय राउत ने हाल ही में अपने लेख में योगी जी की खूब खिंचाई की थी जिसका जवाब योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से दिया जिसमे वो लिखते है कि अपने घर पर जो लोग पहुँच रहे है उनका पूरा और अच्छे तरीके से ख्याल रखा जाएगा. आप लोग अपनी कर्मभूमि छोड़ने वालो की चिंता करने का नाटक तो मत ही करिए. हमारे सभी श्रमिक बन्धु आश्वस्त रहे उनकी जन्मभूमि पर उनका अच्छे से ख्याल रखा जाएगा. कांग्रेस और शिवसेना भी आश्वस्त रहे.

योगी आदित्यनाथ इसके बादमें और भी ज्यादा तैश में आ गये और उन्होंने लिखा कि अपने पसीने से जिन कामगारों ने महाराष्ट्र को सींचा उसकी सरकार से उन्हें सिर्फ छलावा ही मिला है. लॉकडाउन में उनके साथ में धोखा किया गया. उनको उनके हाल पर छोड़ दिया गया और घर जाने के लिए मजबूर किया गया. इसके लिए मानवता तो कभी भी उद्धव ठाकरे को कभी भी माफ़ नही करेगी.

योगी आदित्यनाथ ने पहली बार उद्धव ठाकरे के लिए और शिवसेना के लिए इतने ज्यादा कडवे  शब्दों का उपयोग किया है और इसके पीछे कारण भी है. जिस तरह से ठाकरे और शिवसेना ने यूपी के बिहार के मजदूरो को ढंग से मुंबई में शरण नही दी उसके बाद में वहाँ की सरकारों को नाराज तो होना ही था लेकिन योगी आदित्यनाथ के गुस्से का तो इस दफा पार ही नही है.