चीन को सबसे बड़ा झटका, इन दो विशालकाय कम्पनियों ने भारत आने की घोषणा की

927

जब से भारत ने अपने यहाँ पर नीतिगत बदलाव करने शुरू किये है और आत्मनिर्भर भारत जैसे दावो के साथ में मैदान में उतरा है उसके बाद से ही कई बड़ी बड़ी कम्पनियो ने भारत की तरफ अपना झुकाव दर्शाना शुरू कर दिया है जो अपने आप में काफी ज्यादा फायदे का सौदा हो सकता है. कई लोगो का ऐसा मानना था कि ऐसा हो नही सकता है कि चीन के चंगुल से कम्पनियां छुड़ा ली जाए लेकिन ऐसा वाकई में होने जा रहा है और इसमें सरकार की बहुत ही बड़ी भूमिका है.

जर्मन फुटवेयर ब्रांड वोन वेलेक्स और मोबाइल कम्पनी लावा आएगी भारत, लगेगा बड़ा प्लांट
भारत सरकार की हजार से ज्यादा कम्पनियो से बातचीत चल रही है जिसमें से दो कम्पनियां इस बात को लेकर के राजी हो गयी है. इसमें से पहली तो भारतीय कम्पनी लावा ही है जो मोबाइल मेनुफेक्चरिंग का काम करती है. लावा 800 करोड़ का निवेश कर भारत में निर्माण कार्य शुरू करेगी. ये पहले फायदे के चलते चीन में चली गयी थी लेकिन अब भारत में नीतिगत बदलावों से खुश होकर के वापिस लौट रही है जो कि एक अच्छी बात है.

वही दूसरी कम्पनी है वोन वेलेक्स जिसने भारत की ही एक निजी कम्पनी के साथ में डील की है जिसके साथ मिलकर के वो उत्तर प्रदेश में अपना काफी बड़ा प्लांट लगाने की तैयारी में है. माना जा रहा है इस अकेले प्लांट से एक अच्छी इनकम वाले 10 हजार लोगो को रोजगार मिलेगा जो एक तरह से परमानेंट ही होगा जब तक ये प्लांट चलेगा वही लावा भी एक बड़े स्तर पर लोगो को हजारो लोगो को रोजगार देने वाली है.

चीन इस वजह से काफ़ी ज्यादा बौखला गया है क्योंकि जिस तरह से भारत उसके यहाँ से कम्पनियां छीनता जा रहा है ऐसे में वो कभी भारत को लेकर गलत बयान देता है, कभी मीडिया से गलत खबरे फैलाता है तो कभी बॉर्डर पर लड़ाई कर लेता है, मगर भारत अपने काम में लगा हुआ है और आने वाले वक्त में चीन को पछाड़ने के लिये कमर कस रहा है.