मोदी ने बजायी चीन के लिये खतरे की घंटी, अमेरिका और जापान खुश

573

आज सारी की सारी दुनिया पुनर्वैश्वीकरण की तरफ जा रही है. जब से ये महामारी वाला सीन हुआ है उसके बाद से ही दुनिया के कई बड़े बड़े और विकसित देश चीन से खुदको अलग कर लेना चाहते है क्योंकि वो अब कोई भरोसेमंद मुल्क नही रहा है और ये अपने आप में काफी बड़ी बात है. प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में अपने संबोधन में कुछ ऐसी बात कह दी है जो चीन को शायद पसंद न आये लेकिन बड़े बड़े बाकी विकसित देशो को खूब रास आने वाली है.

भारत के लोकल प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल को जोर, अपनी खुदकी सप्लाई चैन बनाने की बात
प्रधानमंत्री मोदी ने 20 लाख करोड़ रूपये के आर्थिक पैकेज के ऐलान के साथ ही साथ ही ये घोषणा भी कर दी है कि भारत अब लोकल प्रोडक्ट्स पर ही जोर देगा. अपने सामान खुद बनाए जाएंगे और अपनी खुदकी मॉडर्न सप्लाई चैन बनाई जाएगी. हम आपना खुदका इसके लिए इन्फ्रा भी खड़ा करेंगे. ये सब ऐलान एक तरह से मेड इन चाइना प्रोडक्ट्स को अपने यहाँ से पूरी तरह से बाहर कर देने के ऐलान जैसा ही है.

पीएम मोदी के इस विजन से कई कम्पनीज आकर्षित होगी और वो अपने प्लांट चीन की बजाय भारत में लगाएगी और भारत तो अमेरिका जापान जैसे देशो के लिए अब मेनुफक्चरिंग के मामले में पहली पसंद बनता ही जा रहा है तो ये बात तो साफ़ ही समझ लीजिये कि वेस्टर्न देश भारत के इस कदम से खुश होने जा रहे है. भारत अगर उत्पादन के क्षेत्र में ऐसे बड़े रिफोर्म करने जा रहा है तो इसका मतलब साफ़ है कि दुनिया भर में जल्द ही मेड इन इंडिया प्रोडक्ट्स होंगे जो कई विदेशी कम्पनियों के साथ गठजोड़ के साथ भी बनेंगे.

ये चीज चीन को परेशान किये जा रही है और अब वो इसका जवाब जाहिर तौर पर देने की कोशिश करेगा लेकिन नितिन गडकरी ने कहा है कि हम लोग पहले से ही मार्किट में अपनी पकड़ बना चुके है और अब हम कई कदम आगे जा रहे है. ये भारतीय इकॉनमी का क्वांटम जम्प होगा.