पहले अर्नब गोस्वामी और अब सुधीर चौधरी पर दर्ज हुई एफआईआर, मामला गंभीर

200

देश में वैसे तो फ्री स्पीच की काफी मांग की जाती है और ये हर कोई करता है लेकिन जब खुदकी आलोचना होती है तो लोग उसके खिलाफ खड़े हो जाते है और आलोचक मीडिया को जेल में तक भेजने को आमादा हो जाते है और ऐसा ही कुछ देश के नामी गिरामी पत्रकारों के साथ में हो रहा है. पहले तो अर्नब गोस्वामी पर सोनिया गांधी पर निशाना साधने के लिए एक के बाद एक केस दर्ज हुए, उन पर अटैक भी हुए और अब लगता है कि ऐसा ही कुछ जी न्यूज़ के पत्रकार सुधीर चौधरी के साथ में भी हो रहा है.

सुधीर चौधरी के खिलाफ गैर जमानती धाराओं के तहत केरल पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया, गिरफ्तारी की तरफ पहला कदम
सुधीर चौधरी का जी न्यूज़ पर रात के 9 बजे काफी पोपुलर शो आता है जिसे डीएनए के नाम से जाना जाता है और इसी शो के दौरान सुधीर चौधरी ने जि’हा’द शब्द को लेकर के चर्चा की थी कि किस तरह से ये जनसंख्या, आर्थिक और पीड़ित बनकर तमाम तरीके से चलाया जा रहा है और भारत विरोधी एजेंडे के तहत काम कर रहा है.

सुधीर चौधरी ने खुद इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए इस बारे में अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया और बताया कि केरल पुलिस ने मुझपर मुकदमा दर्ज किया है. सच्चाई दिखाने के लिए मुझे ये इनाम मिला है. ये मीडिया के लिए साफ़ सन्देश है कि अगर आप दशको पुरानी उस खींची गयी सेक्युलर रेखा पर नही चलोगे तो आपको भी जेल के भीतर डाल दिया जाएगा. इस तरह से सुधीर चौधरी ने अपनी पूरी बात सोशल मीडिया पर रखी.

ऐसा पहली बार नही है जब उनकी आवाज को दबाने की कोशिश की गयी हो. पहले भी वेस्ट बंगाल सम्बंधित रिपोर्टिंग करने पर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था जिस पर भी उन्होंने अपनी बात मुखरता से रखी थी. कुछ तो कोर्ट का जोर होता है कि राजनीतिक लोग क़ानून से बार जाकर के ऐसे पत्रकारों को दबा नही पाते वरना कबके ये खत्म हो चुके होते.