योगी ने कम्पनियां चीन से यूपी में लाने के लिये बनाया मास्टरप्लान, कम्पनी मालिको से बातचीत जारी

167

सब लोग जानते ही है कि चीन की गलतियो की वजह से दुनिया को कितना भुगता पड़ रहा है. ऊपर से हर किसी को ये भी मालूम है कि चीन से परेशान होकर के कई कम्पनियां है जो अपने ऑफिस, बेस या फिर प्लांट किसी और देश में शिफ्ट करना चाह रही है जिसे भुनाने के लिए योगी आदित्यनाथ ने अपनी तरफ से कोशिशे शुरू कर दी है ताकि वो अपने प्रदेश का फायदा करवा पाए और वो इसमें काफी हद तक कामयाब हुए भी है इस बात को नकारा नही जा सकता है.

एडोब, मास्टरकार्ड समेत 100 से अधिक कम्पनियो से बातचीत जारी, निवेश हेतु हर संभव मदद देंगे
फ़िलहाल करोना वायरस के कारण कही न कही देश को बड़ी बेरोजगारी देखनी पड़ रही है और आगे शायद ये और दिखे लेकिन योगी महाराज अभी से इसके निस्तारण में जुटे हुए है. यूपी सरकार के प्रवक्ता और निवेश प्रोत्साहन मंत्री सिद्दार्थ नाथ सिंह ने इस बारे में जानकारी दी है कि 100 से अधिक कम्पनियाँ है जो उत्तर प्रदेश में निवेश करने की इच्छुक है. हमारी नजर बहुत ही अच्छे से इन चीन छोड़ रही कम्पनियों के ऊपर लगी हुई है.

कई कम्पनियां है जो यूपी में ई पेमेंट्स में निवेश करना चाहती है तो कुछ की इच्छा लोजिस्टिक्स में निवेश करने की है. सीएम योगी की तरफ से एक टीम का गठन भी किया गया है जिसका काम ही मुख्य रूप से इन कम्पनियों से संवाद करना, इनकी समस्याओं का निस्तारण करना और इनको निवेश करने में सहायता करना है. योगी सरकार इन कम्पनियो को टेलर मेड सुविधा तक देगी यानी कम्पनियों को बिना किसी मुश्किल के इन्वेस्ट करने का मौक़ा मिल जाएगा.

अगर ऐसा होता है तो यूपी के लिए ये बहुत ही सुनहरा अवसर होने जा रहा है जिसकी मदद से नॉएडा और गाजियाबाद जैसे शहरो का आने वाले भविष्य में कायापलट ही हो जायेगा और लोग देखते रह जायेंगे कि इस इन्वेस्टमेंट ने कितना कुछ अपने आप में बदल दिया है.