चीन से बदला लेने के लिये भारत से सम्बन्ध मजबूत कर रहा अमेरिका, हो गया इतना बड़ा सौदा

451

आज अमेरिका को महाशक्ति के तमगे को बरकरार रखना है और चीन की चुनौती से निपटना है तो जाहिर तौर पर भारत की मदद तो चाहिए ही होगी क्योंकि इसके बिना तो कुछ और हो पाना संभव ही नही है और ऐसे वक्त में भारत को अमेरिका पहले ही काफी सहूलियत दे चुका है लेकिन हाल ही में एक और सौदा ऐसे वक्त में हुआ है जब अमेरिका खुद भी करोना से जूझ रहा है मगर इसके जरिए अमेरिका ने अपनी दोस्ती का इजहार भारत के साथ में करने का प्रयास किया है जो कि अच्छी पहल है.

भारत को अत्याधुनिक टोरपीडो और हलकी मिसाइले देगा अमेरिका, काफी वक्त से भारत सरकार चाह रही थी
लम्बे समय से भारत सरकार अपने क्षेत्रीय सुरक्षा को मजबूत करने के लिये अमेरिका से कुछ विशेष उपकरण और हथियार चाह रही थी जिसे अमेरिका के द्वारा हाल ही में मंजूरी मिल गयी है. इसमें 16 ‘एमके 54 ऑल राउंड टॉरपीडो और तीन ‘एमके 54 एक्सरसाइज टॉरपीडो के अलावा कुछ हारपून ब्लॉक II मिसाइले भी शामिल है जो अमेरिकी सेना का भी काफी विशेष सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला हथियार है. ये अत्यधिक सटीक निशाना लगाने वाले है.

इनका सौदा लगभग 12 से 13 करोड़ डॉलर के आस पास का है और ये ऐसे वक्त में हुआ है जब अमेरिका चीन से खुन्नस खाकर के बैठा हुआ है और भारत चाहे तो ऐसे वक्त में काफी और फायदे भी ले सकता है जैसे जापान अमेरिका जैसे देशो की कम्पनियां अपनी कई निर्माण इकाईया चीन से निकाल रही है जिसके लिए जाहिर तौर पर उन्हें किसी और देश में जाना होगा और वो एक देश भारत भी हो सकता है क्योंकि एशिया में चीन को टक्कर देने वाला तो एक भारत ही है ये तो मानना ही पड़ेगा. इसके अलावा अमेरिका ने भारतीयो के वीजा को भी एक्सटेंशन दे दिया है जो एक अच्छा संकेत है.

ऐसे में अमेरिकी रक्षा उपकरणों तक अपनी पहुँच बनाकर के और कई मल्टी नेशनल कम्पनियों को अपने देश में निर्माण इकाईयां लगाकर के भारत एशिया में एक सैन्य और आर्थिक ताकत के रूप में उभर सकता है अगर वाकई में इस पर काम किया जाए तो ये संभव है.