सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले से दिया कमलनाथ को बड़ा झटका

457

इन दिनों में मध्य प्रदेश में राजनीति अपने पूरे उफान पर है. भारतीय जनता पार्टी जो सत्ता से बाहर है वो क्लेम कर रही है कि उनके पास में बहुमत है जबकि दूसरी तरफ अपने ही विधायक खो चुके कमलनाथ मुख्यमंत्री पद पर टिके रहने के लिए कोशिशे कर रहे है लेकिन सुप्रीम कोर्ट के हाल ही के फैसले के बाद में कमलनाथ को बड़ा वाला झटका लगा है जो कि लोगो की उम्मीदों पर पानी भी फेर सकता है. आपको मालूम हो तो बीजेपी ने ही इस पर याचिका डाली थी.

आज शाम 5 बजे तक कमलनाथ को करवाना होगा फ्लोर टेस्ट, बहुमत नही हुआ तो गिरेगी सरकार
भारतीय जनता पार्टी की ही तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करवाई गयी थी कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार बहुमत में नही है और इसी क्लेम के आधार पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. हालांकि मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट से बचने के लिए विधानसभा 26 तारीख तक स्थगित कर दी गयी थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार आज ही यानी 20 मार्च को कमलनाथ को फ्लोर टेस्ट करवाना होगा और उसमे पास होना होगा. अगर उनके पास विधायको का समर्थन नही आया तो कांग्रेस की सरकार धडाम से गिरेगी.

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा है कि मध्य प्रदेश के अगर कुछ व् विधायक बैंगलोर में रह रहे है और अपनी मर्जी से रह रहे है तो फिर उनके यहाँ सदन में आने का कोई दबाव नही है चाहे उन्हें कर्नाटक की पुलिस सुरक्षा दे रही हो या फिर चाहे उन्हें मध्य प्रदेश सुरक्षा दे रही हो. सुप्रीम कोर्ट की इस टिपण्णी के बाद में कांग्रेस पूरी तरह से हाथ मलते रह गयी है और अब फ्लोर टेस्ट करवाना ही होगा.

ऐसी स्थिति में कमलनाथ को लेकर के सूत्र ये भी बताते है कि इस बेज्जती से बचने के लिए वो फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफ़ा सौंप सकते है. सिंधिया के जाने के बाद में कांग्रेस पार्टी की हालत मध्य प्रदेश में खस्ता हो चली है जिसे सम्भाल पाना अब किसी के बस की बात नही रह गया है.