दिल्ली में इतना कुछ होने के बाद भी केजरीवाल ने नही लिया सबक, पारित किया विधानसभा में ये प्रस्ताव

841

देश की राजधानी दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में जो हाल हुआ था वो सबने देखा. किस तरह से शाहीन बाग़ को लम्बे समय तक बंधक बनाकर के रखा गया इसके बाद जाफराबाद जैसे इलाको में भी ये फैला जिसमे अंकित शर्मा और रतनलाल जैसे बेक़सूर लोगो ने अपनी जान भी गवा दी लेकिन लगता है इतना कुछ होने के बाद भी सरकारे इस बात को शांत होने देने के पक्ष में नही है क्योंकि अरविन्द केजरीवाल के हाल ही के एक प्रस्ताव को देखकर के तो ऐसा ही कुछ लग रहा है और ये थोडा टेंशन देने वाला भी है.

केजरीवाल सरकार ने दिल्ली विधानसभा में पास किया एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ प्रस्ताव
आज दिल्ली विधानसबह का सत्र बुलाया गया था जिसमे एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ प्रस्ताव पास किया गया. अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि वो दिल्ली में एनआरसी और एनपीआर लागू नही होने देंगे. अरविन्द केजरीवाल ने ये भी कहा कि एनपीआर और एनआरसी पाकिस्तानी हिन्दुओ के लिए है या फिर अपने देश के हिन्दुओ के खिलाफ? जन्म प्रमाण पत्र न होने पर आप डिटेंशन सेंटर भेजने की बात करते है.

अरविन्द केजरीवाल ने तो विधानसभा में खड़े होकर के ये दावा तक कर दिया कि उनके सिर्फ 9 विधायको के पास जन्म प्रमाण पत्र है उनके बाकी विधायको के पास में तो जन्म प्रमाण पत्र ही नही है तो वो लोग खुदकी नागरिकता कैसे साबित करेंगे? अब ऐसी स्थिति में कही न कही लोग केजरीवाल को सोशल मीडिया पर ट्रोल कर रहे है कि एक तरफ तो दिल्ली मेंइतने लोगो का नुकसान हो गया लेकिन फिर भी आम आदमी पार्टी अपनी इस तरह की राजनीति से बाज नही आ रही है. ऐसे में नुकसान तो कही न कही आम लोगो का ही है ये बात समझ सकते है.

दिल्ली सरकार के अलावा और भी कई राज्य की सरकारों ने इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित किया है हालांकि इनका कोई ख़ास अस्तित्व नही है क्योंकि अगर केंद्र सरकार ने कोई क़ानून पारित किया है तो उसे मजबूरी में ही सही लेकिन लागू करना पड़ेगा.