सिंधिया के बीजेपी में शामिल होते ही कमलनाथ ने चला दांव, ज्योतिरादित्य के खिलाफ खुला ये केस

2082

मध्य प्रदेश की राजनीति इन दिनों कुछ अलग ही किस्म के मोड़ से गुजर रही है और जो हो रहा है वो तो हमें साफ तौर अपर नजर भी आ रहा है. जिस तरह से अचानक ही कमलनाथ का पाला छोडकर के सिंधिया बीजेपी के पक्ष में चले गये उसके बाद में कमलनाथ सरकार लडखडाने लगी है और ये बात तो साफ़ तौर पर नजर भी आती है कि किसी भी समय वो गिर सकती है लेकिन कमलनाथ ने उसके पहले ऐसा कुछ कर दिया है जिससे पता चलता है कि अब तो ये दोनों एक दुसरे के ताजा ताजा दुश्मन बन ही गये है.

सिंधिया के खिलाफ खुला फिर से 10 हजार के घोटाले का केस
सिंधिया को अभी कांग्रेस पार्टी छोड़े हुए दो दिन भी नही बीते है कि मध्य प्रदेश की आर्थिक अपराध शाखा ने निर्णय लिया है कि वो ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ सन 2014 में दायर की गयी एक शिकायत की जांच एक बार फिर से करेंगे. इसमें शिकायतकर्ता ने सिंधिया पर 6000 फुट की जमीन में रजिस्ट्री के हेर फेर सम्बन्धी मामला दर्ज करवाया था. इसमें सरकारी जमीन अपने पाले में करने का भी आरोप शामिल है.

जब तक सिंधिया कमलनाथ सरकार में थे कांग्रेस में थे तब तक उनके खिलाफ इस मामले में कोई भी जांच नही हुई लेकिन जैसे ही वो भाजपा में शामिल हुए तो अगले ही दिन मध्य प्रदेश के आर्थिक अपराध शाखा ने उनके खिलाफ तुरंत जांच करने का मन बना लिया इससे साफ तौर पर जाहिर भी हो रहा है कि आखिर चल क्या रहा है? हालांकि कमलनाथ इस पर खुलकर के कुछ बोल नही रहे है मगर एमपी में ये सब किसके हाथ में है ये तो हर कोई जानता ही है.

हालांकि सिंधिया के माथे पर इस बात को लेकर के कोई शिकन नही है क्योंकि वो और शिवराज सिंह चौहान इस बात को लेकर के आश्वस्त है कि जैसे ही फ्लोर टेस्ट की बारी आएगी तो उनकी मदद से बीजेपी बहुमत साबित कर सत्ता में आ जायेगी और उनके खिलाफ खुलने वाले केस दुबारा बंद हो जाएगा, खैर कमलनाथ अपनी तरफ से कोशिश तो कर ही रहे है.