ज्योतिरादित्य के कांग्रेस छोड़ते ही कमलनाथ अलर्ट, तुरंत लिया ये बड़ा फैसला

825

आज बड़े ही जोर शोर के साथ में कांग्रेस के पुराने नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जेपी नड्डा की उपस्थिति में पार्टी यानी भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर ली है जिसका कई लोग तो बड़ी ही बेसब्री के साथ में इन्तजार कर रहे थे इस बात से इनकार नही किया जा सकता है. अब सिंधिया के जाते ही पूरा राजनीतिक खेल ही बदल गया है और कमलनाथ को भी एक बार को सम्भलने में कुछ घंटो का समय लग गया लेकिन जब वो सम्भले तो उन्होंने तुरंत कुछ एक फैसले लिए जिसमे ट्रांसफर आर्डर निकालने शुरू कर दिए.

कमलनाथ ने 5 कलेक्टरों का ट्रांसफर किया, सभी सिंधिया के करीबी थे
ज्योतिरादित्य के भाजपा में जाने के साथ ही कमलनाथ ने गुना, ग्वालियर, नीमच, विदिशा और हरदा पांच जिले के कलेक्टरों का तबादला कर दिया है और उनकी जगह पर अपने लोग लगा दिए है. इसके अलावा भी अन्दर से खबरे है कि उन लोगो का पता लगाया जा रहा है जो पुलिस महकमे में सिंधिया के करीबी है और जल्द से जल्द उनके ट्रांसफर आर्डर भी आ सकते है जैसे पांच कलेक्टरों के आये है.

अब सवाल ये है कि आखिर कमलनाथ ने अचानक ऐसा क्यों किया? तो दरअसल जब तक सिंधिया कांग्रेस में तब तक उनके पास इनके जरिये प्रशासनिक ताकते थी और अब क्योंकि वो बीजेपी में चले गये है तो वो इनकी अधिकारियों की मदद से कांग्रेस की फाइल्स खुलवा सकते है या फिर कुछ भी कर सकते है इसी डर से कमलनाथ ने इन बड़े बड़े अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से हटा ही दिया है ताकि सिंधिया उनकी मदद से कुछ प्रशानिक गड़बड़ियां न पैदा कर दे जिससे कांग्रेस के लिए जवाब देना मुश्किल हो सकता है.

हालांकि कमलनाथ ने तो ये तक कह दिया है कि सिंधिया के जाने से कोई भी फर्क नही पड़ेगा. उनके पास में बहुमत है और वो इसे साबित करके रहेंगे मगर संख्याबल देखकर के ऐसा लगता नही है कि कमलनाथ की सरकार फ्लोर टेस्ट में पास हो भी पाएगी.