रामलला के दर्शन करने अयोध्या जा रहे है उद्धव, मगर संतो ने दे दी ये चेतावनी

744

इन दिनों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे है और अब जैसे भी जिसके साथ भी गठबंधन करके बने है लेकिन सच तो यही ही है कि इन दिनों महाराष्ट्र की सत्ता ठाकरे के हाथ में है और वो इस राज्य को चला रहे है. इस मार्च के पहले सप्ताह के समाप्ति के साथ उद्धव ठाकरे की सरकार को तीन महीने पूरे होने जा रहे है और जिसके बाद में उन्होंने तय किया है कि वो अयोध्या में रामलला के दर्शन करने के लिए जायेंगे मगर लगता है कि संत समाज उनके आने से बिलकुल भी खुश नही है.

उद्धव ठाकरे को अयोध्या में प्रवेश नही करने दिया जायेगा, मैं खुद उनका रास्ता रोकूंगा
उद्धव ठाकरे के कांग्रेस से हाथ मिला लेने के बाद से ही संत समाज के कई लोग उनसे ज्यादा नाराज है जिनमे से तपस्वी छावनी के महंत परमहंसदास तो खुलकर के उनके विरोध में उतर आये है. महंत ने कहा कि शिवसेना के चीफ उद्धव ठाकरे ने सत्ता की लालच में आकर के कांग्रेस से हाथ मिलाकर के राम के भक्तो को धोखा दिया है. न तो उन्हें अयोध्या में प्रवेश करने दिया जाएगा और न ही उन्हें रामलला के दर्शन करने दिया जायेंगे, अगर वो आये तो मैं खुद उनका रास्ता रोकूंगा.

परमहंस दास ने आगे बाल ठाकरे का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने भारत को एक हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए शिवसेना का गठन किया था क्योंकि हिन्दुओ के लिए दूसरा दुनिया में कोई भी अपना देश नही है. उद्धव ठाकरे ने बाला साहेब का भी अपमान ही किया है. अब इनकी अयोध्या में कोई जरूरत नही है और मैं किसी भी कीमत पर इन्हें अन्दर प्रवेश नही करने दूंगा.

जिस तरह से संत समाज के लोग उनके खिलाफ खड़े हो रहे है वो अपने आप में शिवसेना के लिए चिंता की बात तो है क्योंकि यही लोग विमुख हो गये तो शिवसेना का मूल आधार ही ध्वस्त हो जाएगा. आपको बता दे संजय राउत पहले ही अयोध्या पहुँच चुके है और उद्धव ठाकरे के लिए सारा बंदोबस्त करने में लगे हुए है.