अब दिल्ली के एक भी दो’षी का बचना नामुमकिन, शाह के नये फैसले पर बड़ा खुलासा

3537

देश की राजधानी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे के समय जो हाल देखा वो अपने आप में बहुत ही बुरा था. कई लोगो ने अपनी जिन्दगी भर की सम्पति को आँखों के आगे खत्म होते हुए देखा, कईयो ने तो अपने अपनों को ही खो दिया और भला इससे बुरा और क्या ही होगा? अब जो तकलीफ में है उनके साथ खड़ा होना तो जरूरी है लेकिन साथ ही साथ में जिन्होंने ये सब किया है उनपर धर दबोचना भी तो जरूरी है और इस पर काम शुरू हो चुका है.

अब तक सैकड़ो एफआईआर दर्ज कई हिरासत में, अब सूचना मंत्रालय की मदद से सोशल मीडिया की पूरी डिटेल निकाली जायेगी
जो काम जमीन पर किया जा सकता है वो तो पुलिस कर रही है लेकिन गृह मंत्रालय अब इसकी जांच हाईटेक तरीके से करने जा रहा है. गृह मंत्रालय ने अभी के लिए 13 हजार मोबाइल नम्बरों, 1846 ट्विटर हेंडल, 4689 फेसबुक प्रोफाइल्स और 13000 व्हाट्स एप्प एकाउंट्स की पहचान की है जिनका उपयोग लोगो को भड़’काने के लिए किया गया था. अब इन सभी अकाउंट का डाटा सूचना मंत्रालय को सौंपा गया है जो इसकी सारी डिटेल निकालेगा.

यानी अगर किसी ने इस पूरे घटना के समय लोगो को उक’साने के लिए एक पोस्ट भी किया है तो भी अब उसका बचना मुश्किल है क्योंकि सभी का डाटा अब गृह मंत्रालय ने एजेंसियों के माध्यम से हासिल कर लिया और सूचना मंत्रालय इसका गहन डाटा कम्पनियों से हासिल कर लेगा. इसके बाद इसकी जांच एनआईए करेगी जो कि देश की सबसे बढ़िया जांच एजेंसी है और वो सभी आरोपियों को पकड़ कर के ले आयेगी. डिजिटल पहचान के जरिये लोगो को पकड़ पाना उतना भी ज्यादा मुश्किल नही होने वाला है.

कुल मिलाकर के शाह ने सोशल मीडिया पर धावा बोल दिया है और जिन लोगो ने भी सोशल मीडिया के माध्यम से दिल्ली में ये सब हरकते की थी उनका बच पाना मुश्किल है. अब जिन लोगो की पहचान हो गयी है वो अपना अकाउंट बंद भी कर दे तो भी उनकी पहचान तो गृह मंत्रालय के पास चली ही गयी है.