भारतीय राजनीति के बहुत बड़े नेता का निधन, बीजेपी ने जताया दुःख नीतीश खुद पहुंचे

587

अगर राजनीति के लिहाज से देखे तो फ़िलहाल का वक्त कही न कही तकलीफों से भरा हुआ है क्योंकि कई पार्टियों ने कई बड़े बड़े नेताओं को खोया है. शीला दीक्षित, अरुण जेटली और सुषमा स्वराज समेत ऐसे अनेको नाम है जो पिछले कुछ वक्त में सभी को छोड़कर के चले गये और ऐसा लगा मानो एक युग का अंत हो गया और अब ऐसा ही तकलीफ से भरा हुआ समय बिहार की राजनीति में भी आया है क्योंकि जाने माने सांसद और नेता वैद्यनाथ प्रसाद महतो का आज ही निधन हो गया है.

वाल्मीकी नगर से सांसद थे वैद्यनाथ, नीतीश कुमार के माने जाते थे भरोसेमंद
वैद्यनाथ प्रसाद महतो बिहार की राजनीति में एक बाहुबली नेता के तौर पर जाने जाते थे. उनके पास में एक से बढकर के एक खिताब रहे है. वो तीन तीन बार विधायक रहा है और अब इस बार का 2019 का चुनाव भी वो बतौर सांसद वाल्मीकि नगर से लड़े थे और अच्छे खासे मतो के साथ में जीते भी थे. नीतीश कुमार के वो काफी करीबी थे इसलिए खबर मिलते ही नीतीश कुमार ने खुद जाकर के उन्हें श्रद्धाँजली अर्पित की है जो आम तौर पर एक मुख्यमंत्री तो बहुत ही कम करता है.

रिपोर्ट्स की माने तो अभी 70 से अधिक हो चली थी और उन्हें स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ हो रही थी जिसके चलते उन्हें कुछ दिन पहले ही एम्स में भर्ती करवाया गया था. तबीयत अधिक खराब होने पर उन्हें कुछ दिन तक वेंटिलेटर पर भी रखा गया लेकिन शरीर ने आखिर में सपोर्ट करना ही छोड़ दिया और आखिरकार उनका स्वर्गवास हो ही गया. उनके जाने से ख़ास तौर पर बिहार की राजनीति में एक खालीपन सा आ गया है.

भारतीय जनता पार्टी की तरफ से मंत्री और सांसद नित्यानंद राय ने भी उनके निधन पर दुःख जताते हुए श्रद्धाँजली अर्पित की है. उनका जाना एक क्षति है बहुत ही बड़ी क्षति है जिसे कभी भी किसी भी नेता के द्वारा पूरा ही नही किया जा सकेगा.