प्रदर्शन करने वालो पर बरसेगा अब शाह का कहर, लिया सख्त एक्शन

2057

पिछले कुछ दिनों में देश की राजधानी की हालत खराब है. कई हिस्सों में लोगो की जाने तक चली गयी. सीएए के विरोध के नाम पर लोगो के घरो में घुस गये और सार्वजनिक सम्पतियो तक को नही छोड़ा गया. इससे बदतर और कुछ हो नही सकता था और दूसरी तरफ अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का दौरा भी था तो मामला काफी संवेदनशील था. अब इतना कुछ होने के बाद में सब कुछ शांति से रहे और लॉ एंड आर्डर के लिए सख्त कदम अपनाए न जाए ऐसा तो हो नही सकता है. शाह के आदेश के बाद अब सख्ती शुरू हो भी गयी है.

दिल्ली की सीमा को सील किया गया, कई इलाको में कर्फ्यू लगाकर अर्धसैनिक बल तैनात करके जाफराबाद प्रदर्शनकारियों से खाली करवाया गया
देश की राजधानी दिल्ली की सीमा को पूरी तरह से सील कर दिया गया है. कोई भी मालवाहक गाडी अन्दर आ ही नही सकती है और निजी वाहनों को भी पूरी आईडी चेक करके और वाहन की चेकिंग करने के बाद में ही भेजा जायेगा. अन्दर भी कोई सामान्य स्थिति नही है बल्कि कई जगहों पर धारा 144 लागू है और कर्फ्यू भी बड़े ही अच्छे तरीके से लग चुका है.

जगह जगह पर फ्लैग मार्च किया जा रहा है. अर्धसैनिक बलों की कम्पनियां भारी स्तर पर तैनात की गयी है. जाफराबाद में पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुए सभी प्रदर्शनकारियों को रात 8 बजे के करीब हटा भी दिया है और बाकी अन्य स्थलों पर भी पुलिस इसी तरह से कार्यवाही कर रही है. हालांकि शाहीन बाग वालो पर अभी भी नरमी रखी जा रही है क्योंकि वहां पर बच्चो और महिलाओं को ढाल बनाया गया है.

उम्मीद की जा रही है कि जल्द से जल्द इस पर काम हो जाएगा और कही न कही जो भी लॉ एंड आर्डर की स्थिति दिल्ली में खराब हो रही है उस पर भी काम हो जाएगा. हालांकि चिंता की बात ये है कि भविष्य में इससे भी बड़ी स्थिति उत्पन्न हो तब क्या होगा? सरकार को इस पर कही न कही तैयार रहने की जरूरत तो है.