मोदी से जाकर मिले उद्धव और फिर दिया ऐसा बयान, जिससे लगेगा शरद पवार को झटका

696

महाराष्ट्र की राजनीति फिलहाल के दिनों में अगर देखी जाए तो कुछ ज्यादा ही अस्थिर है. कौनसी पार्टी किस तरफ झुक रही है, कौन किससे गठबंधन कर रहा है और कौन कहाँ पर जाकर के मिल रहा है कुछ भी मालूम ही नही चल रहा है. अभी की स्थिति कुछ ऐसी है कि शिवसेना ने एनसीपी के साथ में गठबंधन तो कर रखा है और सरकार भी चल रही है मगर इसके बावजूद कई ऐसे मुद्दे है जिनपर ये एक दुसरे के आमने सामने है और इस कदर आमने सामने है जिसकी झलक सीएए के ममाले में साफ़ तौर पर नजर आती है.

मोदी से मिले ठाकरे, फिर कहा सीएए से देश को कोई खतरा नही
प्रधानमंत्री आवास पर ही उद्धव ठाकरे नरेंद्र मोदी से मिलने के लिए पहुंचे थे जहाँ पर दोनों ने काफी सारी चर्चाये की और इसके बाद में जब वो वापिस लौटे तो मीडिया से बात करने के दौरान उन्होंने बताया कि सीएए से डरने की कोई बात नही है. जहां तक एनआरसी की बात है तो वो पूरे देश में लागू नही होने जा रहा है. इसके जरिये सिर्फ और सिर्फ मुसलमानो के अन्दर डर फैलाया जा रहा है.

उद्धव ठाकरे के इस तरह से मोदी से जाकर के मिलने और फिर नागिकता क़ानून के सम्बन्ध में बयान देने के घटनाक्रम ने एनसीपी को और ख़ास तौर पर शरद पवार को झटका जरुर दे दिया है जिन्होंने ये सोचकर के शिवसेना के साथ में गठबंधन किया था कि वो उद्धव को अपने एजेंडे के अनुसार काम करवा सकेंगे मगर वो तो बिलकुल उसके उलटे ही चले जा रहे है जिससे एनसीपी से उनके ही मुस्लिम वोटर छिटकने का डर बढ़ गया है.

ठाकरे ने ये भी कहा कि पीएम मोदी ने केंद्र सरकार की तरफ से राज्य के लिए हर तरफ की मदद का भरोसा दिया है. अब मदद कितनी मिलती है ये तो आने वाला वक्त ही बता पायेगा लेकिन अभी लग रहा है कि शरद पवार को अपने समर्थन करने का फल नही मिल रहा है.