आजम खान पर टूटा दुखो का पहाड़, बुरा फंस गया बेटा

816

उत्तर प्रदेश में जबसे समाजवादी पार्टी की सरकार गयी है तब से ही आजम खान की हालत बेहद ही खराब हो चली है. जिस तरह से आजम खान की सम्पतियो पर लगातार सरकार के हाथ चल रहे है. पहले उन पर किताबे चोरी करने के मुकदमे, फिर आजम खान की बनाई जौहर यूनिवर्सिटी पर बुलडोजर का चलना, उन पर करोडो का जुर्माना लगना और तो और उनपर किसानो को सत्ता में रहते हुए तंग करने और पुलिस बलों का गलत प्रयोग करने का भी आरोप लगा. ये सब क्या कम था कि अब उनके बेटे के ऊपर भी बन आयी है.

आजम खान के बेटे से वसूला जाएगा वेतन, कोर्ट ने भी याचिका रद्द की
आजम खान के बेटे अब्दुल्ला को पिछले वर्ष 2019 में ही हाई कोर्ट ने विधायक पद के लिए अयोग्य ठहरा दिया था. इस आदेश के बाद में अब्दुल्ला की विधायकी छीन गयी थी. इसके पीछे का कारण था जन्म प्रमाण पत्र का फर्जी होना. आजम खान के बेटे ने जो जन्म प्रमाण पत्र दिखाया था वो फर्जी था और इस कागजात फर्जी होने के कारण विधायकी खत्म हो गयी.

अब इस मामले को आजम खान ने अपनी याचिका में दुबारा हाई कोर्ट में उठाया तब हाई कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि प्राथमिकी दर्ज हो चुकी है और मामला भी जांच योग्य है तो इस पर जांच तो होगी और ऊपर से चुनाव आयोग भी सूत्रों के हवाले से आजम खान के बेटे से वेतन जो भी गलत तरीके से उन्होंने प्राप्त किया है उसकी वसूली करने वाला है. अब जब समाजवादी पार्टी की सरकार किसी तरह से सत्ता या फिर सत्ता में हिस्सेदारी हासिल नही करती है तब तक आजम खान की मुश्किलें कम होती हुई नजर नही आ रही है.

आजम खान खुद भी कई सारे मुकदमो से दो चार हो रहे है और ऐसे में वो राजनीतिक बयानबाजी भी रोक ही चुके है लेकिन इसके बाद अब जब उनके बेटे पर आफत आ गयी है तो कही न कही वो इसे राजनीतिक साजिश बताने की हर संभव कोशिश करेंगे.