अब बुढापे में मोदी बनेंगे सभी का सहारा, बूढ़े लोगो के लिये लेकर आ रहे है ये क़ानून

421

देश में बूढ़े लोगो की स्थिति अच्छी नही है ये बात तो हम सभी जानते ही है मगर इन सबके बीच एक चीज और है कि आजकल तो उनके अपने बच्चे भी उनका सहारा नही बनते है जो कि बड़ा ही तकलीफदेह है. बदलते हुए समाज में ऐसे बुजुर्ग लोग सरकार से उम्मीद लगाते है कि वो उनकी कुछ सहायता करे और उनके लिये वाकई में सरकार ऐसा ही कुछ करने जा भी रही है. अमेरिका में बुजुर्गो का ख्याल आम तौर पर सरकार ही रखती है और उसी की तर्ज पर इसे भी देखा जा रहा है.

बुजुर्गो के लिये डे केयर सेंटर खुलेंगे, बजट सत्र में सरकार ला सकती है बिल
देश भर में ऐसे कई बुजुर्ग है और उनकी बहुत ही बड़ी आबादी ही जो घर के अन्दर बंद रहते है और उनका कोई ख़ास ख्याल रखा नही जाता है तो उनकी देखभाल के लिए सरकार एक एनजीओ बनाकर के उसके माध्यम से डे केयर सेंटर खोलने की तैयारी में है जहाँ पर इनका ख्याल रखा जाएगा. इसके लिए इसी बजट सत्र में ही बिल पेश किया जा सकता है. इस पर विरोध तो कम ही मात्रा में देखने को मिलेगा.

सरकार जो डे केयर सेंटर खोलने की बात कर रही है वहाँ पर बुजुर्गो के लिए नाश्ता करने, भोजन करने, अखबार पढने और व्यायाम से लेकर के खेल कूद आदि की सुविधाये मिलेगी. यहाँ पर केयर टेकर भी रखे जायेंगे जो कि इनके स्वास्थ्य का ख्याल रखेंगे और उनकी जरुरतो पर भी ध्यान देंगे. ये उन बुजुर्गो के लिए बहुत ही मददगार साबित हो सकता है जो कि बुढापे में अकेले हो जाते है और घर पर भी कोई उनका ख्याल रखने की जहमत तक नही उठाता है.

अब नरेंद्र मोदी सरकार इस बिल को अगर पास कर देती है तो फिर इससे कही न कही बाकियों को काफी फायदा हो सकता है और माना जा रहा है कि अगले दस वर्षो में भारत में बुजुर्ग काफी मात्रा में बढ़ जायेंगे जिनके लिए इनकी जरूरत जाहिर तौर पर पड़ने वाली है.