कांग्रेस ने दिया परदे के पीछे से केजरीवाल को सपोर्ट? इस नेता के बयान ने सबको चौंकाया

399

देश की राजधानी नयी दिल्ली में चुनाव हो चुके है और जिस भी नेता को अपनी तरफ से जितना जोर लगाना था वो लगा चुके है. अब सब कुछ फाइनल हो भी गया है कि कौन जीतेगा और कौन नही? बस ईवीएम के नतीजे खुलने की देर है लेकिन उससे पहले कांग्रेस के अन्दर की बात खुल गयी है. आप कह सकते है कि भारतीय इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है जब एक विरोधी पार्टी दुसरे की जीत को प्रोत्साहन देने का प्रयास कर रही है जो हैरान करने वाला भी है.

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, केजरीवाल जीते तो विकास के एजेंडे की जीत होगी
कांग्रेस ने इस दिल्ली के चुनाव में हिस्सा लिया और 70 सीटो पर अपनी तरफ से उम्मीदवार भी उतारे लेकिन अगर आप नजर डाले तो कांग्रेस ने एक तरह सरेंडर ही कर दिया था मानो वो चुनाव लड़ना ही नही चाह रही थी बस फोर्मलटी कर रही थी. इसी बीच अब अधीर रंजन चौधरी का बयान आया है जिसमे वो कहते है कि बीजेपी ने साम्प्रदायिक एजेंडे पर चुनाव लड़ा जबकि केजरीवाल जी ने विकास के एजेंडे को आगे बढ़ाया. अगर केजरीवाल जीते तो ये विकास के एजेंडे की जीत होगी.

अधीर रंजन चौधरी ने यहाँ पर न सिर्फ केजरीवाल को एक विकासवादी आदमी बताया बल्कि उनके जीतने की संभावना भी मानी तभी तो वो अगर शब्द के साथ में इस तरह की बाते कह रहे है. इससे कही न कही ये साफ होता है कि केजरीवाल के लिए कांग्रेस के दिल में एक सॉफ्ट कार्नर बनने लगा है जिसे शायद भविष्य की राजनीति में वोटो को जोड़ने के लिए भी भुनाया जा सकता है.

अब लोगो का तो यही कहना है कि परदे के पीछे दोनों पार्टियां मिली हुई थी तभी कांग्रेस ने सरेंडर कर अपने वोट केजरीवाल को ट्रांसफर किये ताकि बीजेपी को सत्ता से बाहर रखा जा सके और अब अधीर रंजन चौधरी का बयान इसबात में और भी वजन जोड़ देने का कार्य करता है.