मोदी की कूटनीति, पाकिस्तान से उसका ख़ास दोस्त भारत की तरफ होने वाला है

389

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश ही नही बल्कि दुनिया भर भर में अपने विदेशनीति और सफल कूटनीति के लिए जानते जाने जाते है और ये कही न कही भारत को फायदा ही पहुंचाता है क्योंकि वो यही के प्रधानमंत्री जो है. खैर आते है अभी पर, ये रेस तो पिछले सत्तर सालो से चल रही है जिसमे भारत और पाक दुनिया के अलग अलग देशो को अपनी तरफ करने की कोशिश करते रहते है मगर एक देश जो इन दिनों काफी तेजी से उभरा है वो है मलेशिया. पाक से लेकर के नागरिकता क़ानून जैसे मुद्दों पर ये भारत के विरोध में गया था.

मलेशिया के कहे जाने वाले भावी प्रधानमंत्री अनवर ताहिर ने कहा, दुसरे देश की चिंता करने के चक्कर में बहुत आगे बढ़ गये महातिर अभी फ़िलहाल महातिर मलेशिया के प्रधानमंत्री है जिनकी उम्र 94 वर्ष है और उन्होंने ही कश्मीर के मुद्दे पर भारत के खिलाफ पाक का सपोर्ट किया था. अब वो व्यक्ति जो इसी वर्ष मलेशिया के अगले प्रधानमंत्री हो सकते है यानी अनवर ताहिर उन्होंने भारत को लेकर के अपना रूख जाहिर किया है और भारत से दोस्ती खराब होने पर वर्तमान प्रधानमंत्री पर निशाना भी साधा है.

ताहिर कहते है कि महातिर को चिंता व्यक्त करनी थी लेकिन वो चिंता करने के चक्कर में कुछ ज्यादा ही आगे निकल गये. कूटनीतिक ढंग से बात न रख पाने की वजह से ये सब हुआ है. ताहिर का मानना है कि भारत से दोस्ती खराब करके मलेशिया को नुकसान ही हुआ है और वो सत्ता पर बैठते ही इसे ठीक करेंगे. आखिर भारत के पाम आयल आयात रोकने पर मलेशिया को अरबो का नुकसान हो रहा है. राजनीतिकार कहते है कि ये वो अगले कुछ महीनो में मलेशिया की सत्ता पर काबिज होने जा रहे है.

ये नरेंद्र मोदी सरकार की कूटनीति है कि ताहिर ने भारत के खिलाफ बोला और बयान दिए तो उनके ही अपने देश के लोग उनके खिलाफ हो गये है और कही न कही अब वो 94 साल के हो गये है तो नये हाथो में कमान आने ही वाली है जो भारत को खुश करने के लिए बेकरार हो रही है.