राम मंदिर को लेकर प्रधानमंत्री मोदी का संसद में बड़ा ऐलान

133

इन दिनों सदन में बजट का सत्र चल रहा है और सत्र के दौरान कई सारे मुद्दे है जो भी साथ ही साथ में उठाये जा रहे है ताकि मुद्दों को हल किया जा सके जो की हमारे लिए और देश के लिए जरूरी है. सभी जानते है राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दे दिया है जिसके बाद से ही गेंद केन्द्र सरकार के पाले में थी कि वो इस पर क्या कुछ करती है? मोदी जी ने खुद इस मामले में सदन में जवाब दिया है जिसके बाद सारे डाउट क्लियर हो जायेंगे.

सारी जमीन ट्रस्ट को ट्रांसफर होगी, मंदिर सम्बंधित सभी फैसले के लिए स्वतंत्र होगा
आज सदन में नरेंद्र मोदी ने राम जन्मभूमि के सम्बन्ध में सारी जानकारी दी. पीएम मोदी ने कहा की ट्रस्ट भव्य और दिव्य राम मंदिर का निर्माण करेगा. ये मंदिर निर्माण से जुड़े सभी फैसले लेने के लिए स्वतंत्र होगा. ये राम जन्मभूमि मेरे दिल के बेहद ही करीब है. इस ट्रस्ट का नाम श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र रखा गया है. सारा कुछ सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर ही किया जा रहा है. ये ट्रस्ट ही मंदिर निर्माण का फैसला लेगा. कुल 67 एकड़ जमीन जो अभी सरकार के अधिकार क्षेत्र में है वो ट्रस्ट को ट्रांसफ़र की जाएगी.

रामलला विराजमान के पास जो जमीन है वो भी ट्रस्ट को ही मिलेगी. साथ ही शाह ने भी इस सम्बन्ध में जानकारी दी है. ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य होंगे जिनमे से एक सदस्य दलित का होना अनिवार्य है और जब तक ट्रस्ट रहेगा तब तक 15 में से एक सदस्य दलित का होना अनिवार्य होगा. मंदिर का मॉडल भी लगभग तय हो गया है जो दिखने में बेहद ही सुन्दर है.

वही मुस्लिम समाज के लिए भी एक अच्छी खबर है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार सुन्नी वफ्फ़ बोर्ड को भी 5 एकड़ जमीन दी जायेगी और इस सम्बन्ध में यूपी सरकार से बात हो गयी है जो कि उन्हें मस्जिद बनाने के लिए जमीन उपलब्ध करवायेगी.