वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किया बजट पेश, किये 19 बड़े ऐलान

536

हर वर्ष की परम्परा के अनुसार देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज देश की संसद में मोदी सरकार का इस वर्ष का बजट पेश किया. बजट से लोगो को काफी उम्मीदे भी थी जिसे लेकर के सरकार ने काफी मेहनत की है. निर्मला सीतारमण ने पहले तो अपनी आर्थिक उपलब्धियों के बारे में बताया कि किस तरह से देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने का लक्ष्य हासिल करने पर काम किया जा रहा है. हालांकि ये लक्ष्य काफी दूर जरुर है.

चलिए फिर अब जानते है इस बजट की वो बड़ी 19 बाते जो हमारी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने देश के सामने रखी है और अगले वर्षो के अन्दर इस पर काम करके देश की अर्थव्यवस्था को पहले की तुलना में अधिक मजबूत और उभरती हुई बनाया जायेगा.

  1. किसानो की आय दुगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है, 6.11 किसानो के लिये बीमा योजना का भी ऐलान किया गया है.
  2. किसानो को कुसुम योजना के तहत 20 लाख सोलर पम्प देंगे. इससे उन्हें सिंचाई में काफी मदद होगी, किसानो के लिए किसान रेल योजना और कृषि क्रेडिट कार्ड हेतु 15 लाख करोड़ के बजट का एलान है.
  3. जल्द नयी शिक्षा नीति लाने की बात हुई है. जिला स्तर के अस्पतालों में मेडिकल यूनिवर्सिटीज बनाने का प्रस्ताव रखा गया है जिससे देश में डॉक्टर्स की कमी को पूरा किया जा सकेगा. शिक्षा क्षेत्र में 99 हजार करोड़ रूपये दिए जायेंगे. सरस्वती सिन्धु यूनिवर्सिटी और नेशनल फोरेंसिक यूनिवर्सिटी का भी निर्माण होगा.
  4. राज्यों के साथ मिलकर के स्मार्ट सिटीज का निर्माण किया जाएगा, इस निर्माण में पीपीपी मॉडल का उपयोग किया जाएगा. इस बजट में 5 स्मार्ट सिटीज बनाने की बात हुई है, इसी मॉडल पर ही मेडिकल कॉलेज भी बनेंगे.
  5. तटीय इलाको में 2000 किलोमीटर की सड़क बनेंगी जिससे वहां पर कनेक्टिविटी बढ़ सके.
  6. तेजस जैसी और भी सुविधाजनक ट्रेनों की शुरुआत की जायेगी जिससे पर्यटन स्थलों को जोड़ा जायेगा. रेलवे की खाली जमीनों पर सोलर ऊर्जा का उत्पादन करेंगे. 27 हजार किलोमीटर रेलवे ट्रैक का विध्युतीकरण करने का भी लक्ष्य रखा गया है. मुंबई अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड ट्रेन भी चलेगी.
  7. रिन्यूअल पॉवर ऊर्जा के लिए 22 हजार करोड़ का बजट दिया जाएगा जिससे कि ऊर्जा उत्पादन में बढ़ोतरी हो और इसके अलावा नेशनल गैस ग्रिड की शुरुआत भी की जायेगी.
  8. अब घरो में स्मार्ट प्रीपेड मीटर भी लगाये जायेंगे जिससे पहले रिचार्ज कर बिजली ले सकेंगे. इससे बिजली के दामो और बाकी चीजो में पारदर्शिता आयेगी.
  9. भारत क्वांटम टेक्नोलॉजी में भी भारी इन्वेस्टमेंट करेगा. हम अब तीसरे बड़े देश हो जायेंगे जो इस टेक्नोलॉजी में बड़ा इन्वेस्टमेंट करने जा रहा है.
  10. पोषाहार योजना के लिए भी 35 हजार करोड़ रूपये देने का भी ऐलान किया गया है.
  11. अब सीवर और नालो की सफाई हाथो से नही की जायेगी. इन जगहों पर मशीने उपलब्ध की जायेगी ताकि लोगो के जीवन की गुणवत्ता बढ़ सके.
  12. बजट में नेशनल पुलिस विश्वविद्यालय का भी ऐलान हुआ है और गरीबो के लिए ऑनलाइन डिग्री लेने सम्बंधित व्यव्य्स्था की भी बात की गयी है, इसके अतिरिक्त संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए डीम्ड यूनिवर्सिटी बनेंगी.
  13. पर्यावरण के लिये ख़ास ख्याल रखा गया है. जिन शहरो की आबादी 10 लाख से ज्यादा है वहां की हवा साफ़ की जायेगी और ऐसे थर्मल प्लांट्स को बंद किया जाएगा जो प्रदूषण फैलाते है.
  14. क़ानून के तहत रहकर के टैक्स पेयर चार्टर लाया जायेगा जिससे लोगो को टैक्स को लेकर जो भी डर बनाया जाता है वो खत्म हो. टैक्स को लेकर के किसी को भी परेशान नही किया जाएगा.
  15. अब सरकारी बैंक्स में नौकरी और वहाँ की खाली पोस्ट्स को भरने के लिए राष्ट्रीय रिकूटमेंट एजेंसी बनेगी जो एक कॉमन परिक्षा के माध्यम से सिलेक्शन करेगी और पोस्ट्स को भरेगी, नौकरी देगी.
  16. अब तक बैंको में रखा हुआ सिर्फ 1 लाख रूपया इंश्योर होता था लेकिन अब सरकार 5 लाख रूपये का इंश्योरेंस देगी यानी आपके पांच लाख रूपये जो खाते में है उनकी गारंटी सरकार लेगी. सरकार ने IDBI बैंक में भी अपनी हिस्सेदारी बचने का निर्णय लिया है जिससे बैंकिंग में प्रोफेशनलिज्म लाया जा सके. सरकार ने एलआईसी का भी एक बड़ा हिस्सा बेचने का निर्णय लिया है.
  17. जम्मू कश्मीर के विकास के लिए अलग से 30 हजार करोड़ रूपये के बजट का आवंटन किया गया है.
  18. नयी कम्पनियों के लिए कॉर्पोरेट टैक्स 15 प्रतिशत तक का टैक्स भार रखा गया है जबकि पुरानी मेनुफक्चरिंग कम्पनियों के लिए ये 22 प्रतिशत रहेगा.
  19. 5 लाख तक कमाने वालो को टैक्स में पूरी फुल छूट दी गयी है जबकि जो लोग 5 से 7.5 लाख रूपये तक कमाते है उनके लिए ये 10 प्रतिशत कर टैक्स कर दिया गया है जो पहले 15 था. वही जो लोग 7.5 लाख से 10 लाख रूपये की आमदनी रखते है उन्हें 15 प्रतिशत का टैक्स भुगतान देना होगा. वही 30 फीसदी वाले स्लैब में कोई भी बदलाव रखा गया है.