देश के खिलाफ बोलने वाले शरजील इमाम को शाह की पुलिस ने पकड़ लिया, यहाँ छुपा था

440

देश में जब से नागरिकता संशोधन क़ानून लागू हुआ है उसके बाद से ही कुछ एक तत्व है जो लगातार भारत की सरकार और भारत देश के खिलाफ बोलने का काम कर रहे है. इसके लिए कभी मंच शाहीन बाग़ बनता है तो कभी जेएनयू केम्पस बनता है और इन सबके बीच एक व्यक्ति उभर कर के आया जिसका नाम शरजील इमाम है. शरजील का एक बयान वायरल हुआ था जिसमे वो असम को देश से अलग कर देने और रेलवे ट्रैक बाधित कर देने जैसी बाते कर रहा था. इसके बाद पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज कर उसे ढूंढना शुरू किया.

दो दिनों तक लगातार चली छापेमारी, जहानाबाद से पकड़ा गया
जब से पुलिस को शरजील के ऐसे खतरनाक इरादों का पता लगा तब से उसे ढूँढने के लिए बिहार, यूपी से लेकर मुंबई और अरुणाचल प्रदेश तक में छापेमारी की गयी. उसके जानकारो से पूछताछ हुई और शरजील के भाई को भी हिरासत में ले लिया गया. छोटे भाई से पुलिस को लीड मिली जिसके बाद उसे जहानाबाद के आस पास खोजा गया और वो पकड़ा गया. शरजील को पकड़ने के बाद में उसे वहाँ के काको थाने में ले जाया गया जहाँ पर उससे पूछताछ की जा रही है.

अब बिहार में क्योंकि उसके खिलाफ केस नही है तो यहाँ से कागजी कार्यवाही पूरी करने के बाद में शरजील को पकड़कर के दिल्ली ले जाया जाएगा जहाँ पर कोर्ट के सामने पेश करने के बाद में पुलिस इस आदमी की रिमांड की मांग करेगी ताकि और इनका प्लान देश को किस तरह से तोड़ने का है और इनके साथ में और कौन कौन मिले हुए है सारी जानकारी बाहर निकाली जा सके और देश की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके.

शरजील के वकील ने इन सबके बीच ये दावा किया कि पुलिस ने उसे पकड़ा नही है बल्कि उसने खुद सरेंडर किया है जबकि वकील का बयान आने के कुछ देर बाद ही दिल्ली पुलिस ने भी स्टेटमेंट जारी करके इसे बिलकुल झूठ करार दिया और कहा कि ये जो भी हुआ है वो पुलिस ने ही किया है और गिरफ्तारी पुलिस ने की है.