CAA पर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला दे दिया है

260

नागरिकता संशोधन क़ानून को संसद से पास हुए बहुत ही ज्यादा वक्त बीत चुका है और इतने वक्त में क्या कुछ हो रहा है ये बात हम सभी जानते है. देश भर में कुछ वर्ग विशेष से जुड़े हुए लोग इसके खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे है और सरकार से मांग की जा रही है वो इस क़ानून को वापिस ले ले और लगातार राज्य की सरकारे भी इसे रोकने का प्रयास कर रही है मगर ऐसा संभव नही है क्योंकि ये केंद्र से पास हुआ है. ऐसी स्थिति में लोग सुप्रीम कोर्ट पहुंचे जहाँ फ़िलहाल के लिए ऐसा फैसला आया है.

सुप्रीम कोर्ट का फ़िलहाल सीएए पर रोक से इनकार, सरकार से चार हफ्ते में जवाब माँगा
जिस तरह से लगातार इस कानून का विरोध चल रहा है उसके बाद में इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में कुल 140 से भी जया याचिकाए पहुँच गयी जिसकी सुनवाई कोर्ट में हुई मगर जब सुनवाई हुई तो दोनों तरफ से लोग भरे हुए थे. कोर्ट में इतनी भीड़ हो गयी कि वहाँ कोर्ट में खड़े होने की जगह भी नही बची थी. इसके बाद में सुनवाई कोर्ट में शुरू हुई.

काफी सारी बहस होने के बाद में सुप्रीम कोर्ट ने अभी के लिए सरकार के इस क़ानून पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने ये जरुर कहा कि वो सरकार को प्रोविजनल नागरिकता देने के लिए कह सकते है लेकिन इस तरह से इस फैसले पर रोक नही लगा सकते है. हाँ कोर्ट ने याचिकाओं के लिए सरकार से कुल चार हफ्तों के भीतर जवाब देने को कहा है ताकि सरकार भी अपना पक्ष रख सके. कुल मिलाकर सरकार के इस सीएए पर कोई फौरी तौर पर रोक लगाने से मना कर दिया है.

इससे कही न कही सरकार और इस क़ानून का समर्थन करने वाले लोगो को तो अच्छा ख़ासा बल मिला है जो कही न कही इन्हें आगे बढ़ने में मदद करेगा और जो भी प्रदर्शन सीएए