मोदी के सामने मलेशिया ने टेके घुटने, पहले कर रहा था कश्मीर पर पाकिस्तान का समर्थन

235

जब से भारत ने मोदी युग में प्रवेश किया है तब से ही देश में एक अलग तरह की बयार बहने लगी है और ख़ास तौर पर भारत की विदेश नीति तो अलग ही स्तर पर जा चुकी है इस बात में कोई भी शक नही है. लगभग दुनिया के सारे देश भारत के प्रति अच्छा रवैया दिखाने लगे है और दोस्ती की बाते करने लगे है जो अच्छी बात है लेकिन इनमे से कुछ देश है जो भारत के खिलाफ रहे जिनमे से मलेशिया भी एक प्रमुख था. मलेशिया के प्रधानमंत्री ने भारत की संयुक्त राष्ट्र के मंच तक पर भी बुराई कर दी थी.

नाराज होकर भारत ने मलेशियाई पाम आयल के आयात पर रोक लगाई, मलेशियाई पीएम ने कहा हम बहुत छोटे
भारत मलेशिया के इस स्टैंड से बेहद ही नाराज हो गया जिसके बाद से ही कयास लग रहे थे कि मलेशिया के पाम आयल का आयात भारत रोक देगा और ऐसा भारत ने वाकई में कर दिया. दरअसल मलेशिया पाम आयल का दूसरा सबसे बड़ा उप्तादक देश है और भारत इसका सबसे बड़ा खरीदार. मलेशिया के दस लाख से ज्यादा लोग भारत के आयात की वजह से कुछ कमाई कर पाते है और मलेशिया की अर्थव्यवस्था ठीक ठाक बनी रह पाती है.

भारत के पाम आयल का आयात रोकते ही मलेशिया को आने वाली एक बड़ी इनकम का हिस्सा ठप्प हो गया है जिससे उनकी जीडीपी भी गिरने लग जायेगी इसमें कोई शक नही है. इस पर मलेशिया के पीएम ने कहा ‘भारत के खिलाफ जवाबी कार्यवाही करने में हम लोग बहुत ही छोटे है मगर अब ऐसा हो गया है तो हमें इस मुसीबत से निकलने के लिए दुसरे तरीके खोजने होंगे.’

खैर इसके दुसरे तरीके है ही नही क्योंकि मलेशिया पाम आयल बेचे बिना अपना देश ढंग से चला नही पायेगा और भारत के जितना पाम आयल खरीदने और उसका इस्तेमाल करने की काबिलियत दुनिया के किसी और देश में नही है. मोदी की इस विदेश नीति की लोग जमकर के तारीफ़ कर रहे है और कह रहे है कि अच्छा सबक सिखा दिया है..