अमित शाह ने छोड़ा अध्यक्ष पद, नये नेता ने संभाली बीजेपी की कमान

117

अभी फिलहाल के पिछले कुछ एक सालो में हम सभी लोगो ने देखा है कि किस तरह से एक पार्टी यानी भारतीय जनता पार्टी ने जबरदस्त लेवल की ग्रोथ हासिल की है. अमित शाह जब से बीजेपी के प्रेसिडेंट बने थे तब से ही बीजेपी ने एक अलग ही किस्म की रफ़्तार पकडनी शुरू की. उनकी अध्यक्षता में भाजपा ने एक नही बल्कि कई सारे सूबे हासिल किये और केंद्र में भी एक नही बल्कि दो दो बार सरकारे बना दी वो भी पूर्ण बहुमत के साथ. अब वो शाह बीजेपी के अध्यक्ष का पद छोड़ रहे है ताकि दूसरो को भी मौका मिल सके.

जेपी नड्डा को मिला अध्यक्ष पद, अब से वही लेंगे सारे फैसले
प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह समेत हजारो कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में जेपी नड्डा ने भाजपा अध्यक्ष का पद संभाल लिया है. अब बीजेपी उनके फैसलों के आधार पर चलेगी और अमित शाह अब संगठन में कम एक्टिव रहेंगे और सरकार के कामो में पहले की तुलना में और ज्यादा ध्यान देगे. अमित शाह अध्यक्ष के तौर पर काफी अच्छा काम तो कर रहे थे लेकिन पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र को बनाये रखने के लिए नए लोगो को मौक़ा देना जरूरी होता है.

हालाकि जेपी नड्डा ये काम बतौर कार्यकारी अध्यक्ष तो संभाल ही रहे थे इसलिए उन्हें काम का एक्सपीरियंस अच्छा ख़ासा है जिससे भाजपा को ही फायदा होने वाला है. अब बात करे जेपी नड्डा की तो अभी उनकी आयु 59 वर्ष है और वो महज 16 साल की उम्र से ही सन्घ की विचारधारा से जुड़ चुके थे. वो पूर्व केद्री मत्री रह चुके है और हिमाचल प्रदेश से उन्होंने राज्य सभा के सदस्य के रूप में भी देखा जा चुका है. उनका राजनीतिक अनुभव अच्छा ख़ासा है और साथ ही साथ में उनका संगठन का अनुभव तो उससे भी ज्यादा बेहतरीन है.

बीजेपी के लोग तो यही उम्मीद कर रहे है कि अब जेपी नड्डा अमित शाह की ही तरह भाजपा को पंख दे और जो राज्य पिछले कुछ महीनो में हारे है वहाँ पर कसके तैयारी करके बीजेपी फिर से खुदको सत्ता में काबिज करने की तैयारी करे.