तान्हा जी में विलेन बने सैफ अली खान ने कहा, हिन्दुओ की ये बात मुझे सबसे ज्यादा पसंद है

684

अभी हाल ही में एक फिल्म तान्हा जी रिलीज हुई है और फिल्म काफी बेहतरीन परफॉर्म भी कर रही है. ये 100 करोड़ क्लब में तो लगभग लगभग शामिल हो ही चुकी है जो कि हम लोग जानते है मगर क्या आपको ये चीज पता है कि इस फिल्म को हिट करवाने में जितना हाथ अजयदेवगन का है उतना ही हाथ सैफ अली खान का भी है जिन्होंने एक बहुत ही जबरदस्त खलनायक का किरदार निभाया है. इससे उनकी लोकप्रियता में भी अच्छा ख़ासा इजाफा हुआ है मगर हाल ही में उन्होंने एक बयान दिया है जो हिन्दुओ से जुड़ा है.

सैफ को पसंद आया हिन्दुओ का जीने का तरीका, चार आश्रमों की करने लगे तारीफ़
सैफ अली खान से पूछा गया कि क्या आपको जवानी ढलने का डर लगता है? इस पर जवाब देते हुए कहा कि नही ऐसा नही है, मुझमे ज्यादा जवान दिखने की चाहत नही है. हाँ ये भी सच है कि मैं ज्यादा बूढा नही दिखना चाहता हूँ. जब तक काम मिल रहा है तब तक ठीक है वरना रिटायरमेंट लेकर के चिल करूंगा.

मुझे जिन्दगी जीने के लिए हिन्दुओ के चार आश्रमों वाला तरीका बड़ा ही पसंद आता है. हर एक चीज का एक समय होता है, आपको कब पैसा कमाना है? कब आपको रिलेक्स करना है. अगर आप उस समय के हिसाब से काम करते है और जीवन जीते है तो वाकई में आप खुश रहते है. सैफ का इशारा फ़िलहाल हिन्दुओ के चार आश्रमों की तरफ था जिन्हें हम ब्रह्मचार्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ और संन्यास के नाम से जानते है और ये कही न कही जिन्दगी जीने की सही विद्या भी है आखिर सदियों से ही नही बल्कि हजारो वर्षो से हम लोग ऐसे ही जीते आये है.

खैर सैफ की माँ एक हिन्दू है तो उन्हें कही न कही हिन्दू धर्म की जानकारी है और इस वजह से वो उसके करीब रहते है और कभी भी सैफ ने इस तरह के बयान नही दिए है जिससे किसी की भी भावना आहत होती हो बल्कि वो अपने काम से ही मतलब रखते है.