दीपिका के जेएनयू जाने से एक्शन में आयी कम्पनियां, दीपिका के विज्ञापन दिखाने पर अस्थायी रोक

260

दीपिका पादुकोण ने हाल ही में जो किया है वो जगजाहिर है. उनकी एक बहुत ही अच्छी और सामजिक फिल्म आ रही थी जिसका नाम था छपाक. ये फिल्म एक सामाजिक मुद्दे पर आधारित थी और लोग इस फिल्म को देखना भी चाह रहे थे लेकिन इस फिल्म के रिलीज के ठीक पहले दीपिका जेएनयू चली गये जहाँ पर वो कन्हैया कुमार के साथ खड़ी रही और अपना मूक समर्थन दिया. इससे लोग काफी ज्यादा नाराज हो गये और उन्होने दीपिका पादुकोण की फिल्म का बॉयकोट करे की मुहीम चलाई और अब लोगो की नजर उन विज्ञापनों पर है जिन पर ये अभिनेत्री नजर आती है.

मीडिया एजेसी के मुताबिक़ दीपिका के विज्ञापन फिलहाल दो हफ्ते के लिये रोके गये, आगे हो सकता है और बड़ा नुकसान
एक मीडिया एजेसी ने एनबीटी की रिपोर्ट के मुताबिक़ कहा है कि दीपिका से जुड़े हुए जो भी विज्ञापन है उन्हें दो हफ्तों के लिए रोक दिया जाये. ये विज्ञापन रिज्यूम तब ही किए जाए जब ये सारा मामला शांत हो. यही नही ब्रांड्स अब इस तरह की बातो पर भी विचार कर रहे है कि राजनीति में रहने वाले स्टार्स के साथ में विज्ञापन न किए जाए.

अगर वो किसी स्टार्स के साथ भविष्य में विज्ञापन करेंगे तो वो कॉन्ट्रैक्ट में एक क्लोज भी जोड़ सकते है कि आप इस तरह के बयान नही देंगे क्योंकि आप उस वक्त तक उस ब्रांड से जुड़े हुए है और इससे हमारी कम्पनी का नुकसान होता है और इमेज डाउन होती है. आखिर कम्पनी भी सेफ खेलना चाहती है उन्हें भला किसी की राजनीति से क्या मतलब? वो तो सिर्फ प्रॉफिट बनाने पर ध्यान देती है न कि क्या सही है और क्या गलत इसपर.

आपको बता दे दे फ़िलहाल दीपिका एक प्रोडक्ट के एड करने तक के 8 करोड़ रूपये भी चार्ज कर लेती है और अगर इस तरह की बाते आगे चलकर के कॉन्ट्रैक्ट में आती है तो फिर दीपिका या आमिर खान जैसे स्टार्स को या तो पैसा चुनना होगा या फिर अपनी राजनीतिक आजादी चुननी होगी.