वो कांग्रेस नेता, जिसका गुस्सा और बढ़ा तो वो राजस्थान की गहलोत सरकार गिरा भी सकता है

541

राजस्थान में वैसे तो हर पांच साल पर सरकार बदलती ही रहती है. कभी बीजेपी सत्ता में आती है तो कभी कांग्रेस आती है लेकिन इन दिनों में हालात कुछ अलग ही नजर आ रहे है. वैसे आपको मालूम होगा कि राजस्थान में अशोक गहलोत की अगुवाई में कांग्रेस की सरकार बनी हुई है और वो सरकार अपने आप में काफी ज्यादा अच्छे अंको से भी बनी है लेकिन इन दिनों में इस सरकार में आपस में हो रही कलह खुलकर के सामने आने लगी है और ये काम कर रहे है सचिन पायलट जो कई मायनों में बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय नेता भी है.

बार बार गहलोत सरकार को घेरते है पायलट, कोटा अस्पताल मामले पर भी बताया गैर जिम्मेदार
सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच की अनबन फ़िलहाल तो जग जाहिर हो चुकी है. वो मुख्य मंत्री पद जो शायद पायलट को मिल सकता था वो गहलोत को दे दिया गया जिसके बाद से ही दोनों के बीच में खींचतान जारी है. अभी हाल ही में कोटा में अस्पताल में बच्चो की जान जाने पर सचिन पायलट ने कहा था कि सरकार हमारी है तो जिम्मेदारी से भाग नही सकते है?

यही बाते उन्होंने गहलोत द्वारा पूर्व मुख्यमंत्रियों को बँगला खाली न करवाए जाने पर भी कही कि विपक्ष में थे तब इसी बात को लेकर के कोर्ट गये थे और अब जब सत्ता में है तो वही कर रहे है जो बीजेपी कर रही थी. कुल मिलाकर के पार्टी में काफी खटपट है और ये राजस्थान की सरकार में अस्थिरता पैदा करने का काम लगातार कर ही रही है. हालांकि गाँधी परिवार ने सचिन पायलट के गुस्से को किसी न किसी तरह से थाम रखा है.

फ़िलहाल के राजनीति एक्सपर्ट बताते है कि आज की तारीख में सचिन पायलट के पास 30 से ज्यादा विधायको का समर्थन है जिसके साथ अगर वो सरकार से हट जाए तो सरकार धडाम हो सकती है लेकिन अभी वो सब्र बनाये है, शायद इस उम्मीद में कि अगली टर्म में उन्हें मौका मिल जाये.