ममता बनर्जी ने किया विपक्ष की बैठक का बहिष्कार, बतायी ये वजह

177

इन दिनों मोदी सरकार के खिलाफ खड़े होने के लिए विपक्ष के लोग लगातार एकजुट हो रहे है या फिर एकजुट होने के प्रयास कर रहे है क्योंकि नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता ही इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि उससे अकेले पर कर पाना एक अकेले की बस की बात नही रह गयी है और ये बात कही न कही फैक्ट है. खैर अभी हम आते है अभी के मसले पर जहाँ पर ममता ने अपनी राहे बाकी पार्टियों से अलग करने की ठान ली है और कांग्रेस सीपीएम को ठेंगा दिखाने का फैसला किया है.

बंगाल में कांग्रेस और सीपीएम से प्रदर्शन के नाम पर तोड़फोड़ से नाराज ममता, किया बैठक का बहिष्कार
अभी विपक्ष के लोग मोदी सरकार के सीएए का विरोध कर रहे है और ऐसे में तोड़फोड़ भी मचा रखी है जिस चक्कर में सीपीएम और कांग्रेस के लोगो ने बंगाल में भी काफी तोड़फोड़ मचा दी जिसकी जिसकी जिम्मेदारी कही न कही बंगाल की ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सर पर आनी है जिसके चलते वो विपक्षी पार्टियों से नाराज है और ममता बनर्जी ने फैसला किया है कि वो उनकी बैठको का बहिष्कार करेगी.

ममता बनर्जी ने कहा है कि ये पार्टियां विरोध के नाम पर टायर जला रही है, तोड़ फोड़ कर रही है और ये  चीज मैं बंगाल में बर्दाश्त नही करूंगी. ममता का तो हाल ही में ये बयान तक आया है कि वो राजनीति करने के लिए सीपीएम के हद तक कभी भी नही गिर सकती है. इस तरह की बयानबाजी करना और इसके बाद में ममता बनर्जी का यूँ अचानक से ही विपक्षी पार्टियों की बैठक से किनारा कर लेना साफ़ बताता है कि वो अब उनके साथ में जाने में दिलचस्पी ही नही रखती है.

खैर जो भी है ममता बनर्जी अभी ये सब कर रही है क्योंकि बंगाल में चुनाव आ रहे है और ऐसे में सीपीएम और कांग्रेस राज्य में टीएमसी की सहयोगी नही बल्कि विरोधी पार्टियां होने वाली है तो कुछ पल के लिए उनसे हाथ मिलाकर के भी भला क्या फायदा है?