फड़नवीस ने की राज ठाकरे से गुप्त मुलाक़ात, हो सकता है बड़ा ऐलान

409

फ़िलहाल के दिनों में महाराष्ट्र की राजनीतिक हवाओं में काफी बदलाव आ रखा है. शिवसेना भाजपा को छोड़कर के जा चुकी है और कांग्रेस एनसीपी के साथ मिलकर के सरकार भी बना चुकी है जो अपने आप में सबको चौंकाता भी है लेकिन अब तो जो होना था सो हो चुका है और अब बीजेपी की बारी है एक नयी राजनीतिक जमीन तैयार करने की और इसके लिए उन्होंने एक नये साथी को ढून्ढ लिया लगता है क्योंकि पिछले काफी समय से ये अटकले लग रही थी जो राज ठाकरे के रूप में सच होकर के सामने आ सकती है.

फडनवीस ने की राज ठाकरे से डेढ़ घंटे तक मुलाक़ात, हो सकता है गठबंधन का ऐलान
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ आज की ही घटना है जब देवेन्द्र फडनवीस ने खुद राज ठाकरे से मुलाकात की जो लगभग डेढ़ घंटे तक चली है और इस मुलाक़ात में क्या बाते हुई ये अभी तक साफ़ नही हो पाया है मगर कहा जा रहा है कि ये मनसे और बीजेपी के महाराष्ट्र में गठबंधन की तरफ पहला कदम है और तो और दावे तो यहाँ तक भी हो रहे है कि इस 22 जनवरी को दोनों पार्टियों के गठबन्धन का ऐलान भी हो सकता है.

इन सबसे इतर एक खबर ये भी है कि महाराष्ट्र में हो रहे जिला और पंचायत स्तर के चुनावो में भी बीजेपी और मनसे के पोस्टर एक साथ में लगे थे जिसके बाद से ही कयास लगने लग गये थे कि ये दोनों पार्टियां साथ आ सकती है और अब फडनवीस और राज ठाकरे की मुलाकात कही न कही ये बात साबित भी करती भी है क्योंकि दोनों ही उद्धव ठाकरे की वजह से आज इस कंडीशन में है.

राज ठाकरे को भी शिवसेना की गद्दी मिलने जा रही थी लेकिन बाल ठाकरे ने ये गद्दी उद्धव ठाकरे को दे दी और इसके बाद अब फडनवीस को भी सीएम की कुर्सी मिलने जा रही थी जिसे उनसे उद्धव ठाकरे ने एनसीपी और कांग्रेस के सपोर्ट से छीन लिया. कुल मिलाकर दुशमन के दुश्मन दोस्त होता है आधार पर दोस्ती करने के प्रयास में है.