JNU में हुई छात्रो की पिटाई पर उद्धव ठाकरे ने जो बयान दिया, वो बाल ठाकरे से बिल्कुल उल्टा है

656

अभी हाल ही में जेएनयू में एक घटना हुई है जिसने पूरे देश का ध्यान अपनी तरफ खींचा है. दरअसल रात को कुछ लोग जेएनयू केम्पस में घुस आये और वो लोग हॉस्टल में भी घुसे जिन्होंने मुंह पर नकाब पहन रखा था और इन्होने अन्दर घुसकर के कुछ बच्चो की पिटाई करनी शुरू कर दी जिसमे कईयो को काफी चोट भी आयी है. इसमें जेएनयू की प्रेसिडेंट छात्रा को भी काफी भारी मात्रा में चोट लगी है और वो दर्द से चिल्ला रही है. ऐसे में उद्धव ठाकरे ने कुछ अजीब सा ही बयान दिया है.

उद्धव ठाकरे ने की जेएनयू में झगडे की मुंबई आतंकी हमले से तुलना
जेएनयू में हुई घटना के महज 24 घंटे के भीतर ही उद्धव ठाकरे ने इस मामले में प्रतिक्रिया दी और बयान जारी करते हुए कहा कि जेएनयू में हमने जो भी होते हुए देखा उससे मुंबई अत्ताक्ट 26 11 याद आ गया. उद्धव ठाकरे ने आपस में झगड़ रहे छात्रो की तुलना पाकिस्तान से आने वाले आतकियो से ही कर डाली जो अपने आप में बेहद ही हैरान करने वाला था. उद्धव ठाकरे इस तरह के बयान सिर्फ कांग्रेस के गठबंधन के बाद से ही देने लगे है.

वही बात करे शिवसेना के संस्थापक और उद्धव ठाकरे के पिता बाल ठाकरे की तो वो इसके बिलकुल उलट थे. वो ऐसे संस्थान जहाँ से भारत विरोधी नारे देखने को मिलते थे वहां पर उनके खिलाफ ही खड़े रहते थे और खिलाफ न भी होते तो कम से कम अपने देश के लोगो की तुलना पाक वालो से तो नही ही करते थे. आप चाहे अमरनाथ वाला किस्सा हो या फिर मुंबई में शिवसैनिको को सड़क पर उतार देना हो कोई भी किस्सा ले लीजिये बाल ठाकरे हमेशा से ही अपने बेटे उद्धव ठाकरे द्वारा तय किये गये पथ से बिलकुल अलग राह पर ही चलते थे.

सिर्फ ठाकरे ही नही बल्कि और भी कई नेता जिनमे सुरजेवाला, मायावती और भी कई नेता शामिल है जो जेएनयू में हो रहे घटनाक्रम में सीधे सीधे प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को निशाना बना रहे है जो सरासर अजीब सा ही लगता है/