अमित शाह को निपटाने चले थे, खुद ही निपट गये

520

बंगाल और भारत के पडोसी देश बांग्लादेश के बीच में काफी लंबा बॉर्डर है और जब बॉर्डर नही था तो दोनों जगहे एक ही थी. इस वजह से दोनों जगहों के लोगो में आपस में आत्मीयता और सांस्कृतिक मेल मिलाप होना बनता भी है लेकिन ये मेल मिलाप इस हद तक चला जाए कि आप अपने ही देश के खिलाफ बोलने लगे तो कहाँ तक जायज है? हम बात कर रहे है सदिकुल्लाह  चौधरी की जो बांग्लादेशियों के प्रति प्रेम दिखाने के लिए अपने देश के गृह मंत्री को धमका रहे थे लेकिन वही देश अब उन्हें अपनी चौखट तक पर नही चाहता.

चौधरी ने  दी थी शाह को एयरपोर्ट से वापिस भेजने की धमकी, अब उनका प्यारा बांग्लादेश ही उन्हें वीजा नही दे रहा
ममता की सरकार में मंत्री है और नाम है इनका सदिकुल्लाह चौधरी. जब सीएए लागू हुआ और बांग्लादेशी घुसपैठियो को बाहर निकालने की बात हुई तो चौधरी ने शाह को धमकी देते हुए कहा कि कलकत्ता के एयरपोर्ट के बाहर कदम नही रखने देंगे. बाहर एक लाख से ज्यादा लोग जमा कर देंगे फिर देखते है तुम बंगाल में आ कैसे पाते हो?

अब यही चौधरी साहब बांग्लादेश जाना चाहते थे जिसके लिए वो भारत से बगावत कर रहे थे और उसी बांग्लादेश ने चौधरी को अब वीजा देने से इनकार कर दिया है. रिपोर्ट्स की माने तो बांग्लादेश ने चौधरी को एक कट्टरपंथी और भड़काऊ शख्स के तौर पर मानते हुए उन्हें वीजा देने से मना कर दिया है. उन्हें इस 26 तारिख को किसी इवेंट में भाषण देने जाना था लेकिन वो नही जा पाए और अब चौधरी जी के न तो उगलते बन रहा है और न ही निगलते बन रहा है.

खैर भारत सरकार इस पर कुछ भी नही कह रही है और न ही उनकी तरफ से या फिर शाह की तरफ से कोई प्रतिक्रिया आयी है क्योंकि बांग्लादेश के साथ में अब रिश्ते सामान्य हो रहे है. वहाँ के विदेश मंत्री ने तो ये तक कहा है कि भारत हमे बांग्लादेश से घुसपैठ करने वालो की लिस्ट सौंपे तो हम उस पर विचार कर उन्हें लेने को भी तैयार है.