पीएम मोदी को मिली चिट्ठी, नेहरु के जन्मदिन पर नही इस तारीख को मनाया जाये बाल दिवस

316

जब भी कोई सरकार आती है तो कही न कही अपने एजेंडे पर कार्य करती है और अपनी विचारधारा को बढ़ावा भी दिया जाता है ताकि इतिहास में उनका नाम दर्ज हो जाए और वाकई में कही न कही दर्ज होता भी है इस बात में कोई भी शक नही है. प्रधानमंत्री मोदी ने इन दिनों में सरकार में आने के बाद में जो भी ऐतिहासिक फैसले लिए है वो चाहे जीएसटी हो, नोटबंदी हो, अनुच्छेद 370 हटाना हो, नागरिकता बिल लाना हो या फिर तीन तलाक को खत्म करना हो. इसने उन्हें खूब ऊंचाई दी है और अब उनसे एक और मांग की जाने लगी है.

मनोज तिवारी ने लिखा पत्र, नेहरु के जन्मदिन पर नही गुरु गोविन्द सिंह के साहिबजादो के बलिदान दिवस पर हो बाल दिवस
दिल्ली प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष और भाजपा से ही सांसद मनोज तिवारी ने प्रधानमंत्री मोदी को जनभावनाओं के अनुसार एक चिट्ठी लिखते हुए कहा है कि अब तक अवधारणा रही है कि चाचा नेहरु बच्चो से बड़ा प्यार करते थे और इस वजह से उनके जन्मदिन पर बाल दिवस मनाया जाता है मगर मगर इस देश में बच्चो ने भी कम बलिदान नही दिये है.

जोरावर सिंह और फ़तेह सिंह ने धर्म की रक्षा में मुगलों से जूझते हुए प्राण त्याग दिए थे अपना बलिदान दे दिया था.मनोज तिवारी ने उन्ही के बलिदान वाले दिवस पर बाल दिवस मनाने की घोषणा करने की मांग की है. हालांकि ये करना आसान नही है क्योंकि इसे कांग्रेस और कई पार्टियां अपनी अस्मिता से जोड़कर के देखती है और ये हुआ तो देश भर में हो हल्ला होना भी पूरी तरह से तय है.

एक एंगल इसमें आने वाले दिल्ली चुनावों का देखा जा रहा है क्योंकि दिल्ली में सिख समुदाय की बहुत ही अच्छी खासी आबादी है और इस कदम से शायद बीजेपी की तरफ उनका झुकाव बढे. खैर इस पर कुछ भी कहा नही जा सकता है क्योंकि काफी कुछ तो आखिरी चुनावी दिनों पर ही निर्भर करने लग जाता है.