CAA का विरोध करने वाले नेताओं को जनरल विपिन रावत ने गजब हड़का दिया

198

देस भर में इन दिनों में नागरिकता क़ानून को लेकर के अलग ही किस्म की जंग छिड़ी ही ही और इस पर हर किसी का अपना अपना मत भी है और मतभेद भी खूब है. अब इतना बड़ा देश है और जाहिर तौर पर इसमें कोई भी एक सा नही हो सकता है और लोग अपने अपने अलग अलग मत रखेंगे मगर इन मतो को रखने की आड़ में अगर गैर कानूनी काम किये जाने लगे फिर क्या करेंगे? अब CAA के विरोध में तो देश में ऐसा ही कुछ हो रहा है और इस पर सेना प्रमुख तक को बोलना पडा है.

नेता वो नही है जो लोगो का गलत दिशा में नेतृत्व करते है
जनरल विपिन रावत कई मुद्दों पर अपनी बात बहुत ही बेबाकी के साथ में रखते है और इस बात भी उन्होंने बिलकुल ऐसा ही किया. रावत ने एक इवेंट के दौरान बोलते हुए कहा ‘वो लोग नेता नही है जो गलत दिशा में छात्रो का नेतृत्व करते है. जैसा हम लोग गवाह रहे है बड़ी संख्या में कॉलेज यूनिवर्सिटी के छात्रो के तोड़फोड़ और आग लगाने जैसी घटना का लोग नेतृत्व कर रहे है. ये नेतृत्व नही है.’

इसके बाद अपने सेना के डिसिप्लिन की मिसाल देते हुए जनरल रावत ने कहा ‘जब हम लोग दिल्ली में खुदको सर्दी से बचाने के लिए जूझ रहे है तब मैं अपने उन जवानो को सम्मान देना चाहूंगा जो सियाचिन में सल्तोरो ब्रिज पर बिलकुल मुस्तैदी के साथ में खड़े है और उन्हें भी जो उंचाइयो पर पहरा दे रहे है जहाँ पर तापमान माइनस दस डिग्री से माइनस पचास तक चला जाता है.’ जनरल रावत ने कही न अखी देश की सम्पति को नुकसान पहुंचाने वालो को आड़े हाथो लिया है.

वैसे वाकई में इन लोगो को सेना से सीखने की जरूरत भी है क्योंकि जिस तरह के हालात बन रहे है सेना के साथ में ऐसे वो चाहे तो अपने हको की दुहाई देकर के कई सारे काम छोड़ सकते है मगर इसके बावजूद वो डटकर के खड़े है और इसी को अनुशासन कहते है.