ममता ने फिर खेली नयी चाल, इतने मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखकर कर रही ऐसी अपील

100

देश की राजनीति में चाहे जो कुछ भी हो रहा हो और भले कैसी ही उथल पुथल देखने में आ रही हो लेकिन बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सिर्फ और सिर्फ एक काम करने में माहिर नजर आती है और वो काम है बीजेपी का विरोध. ममता बनर्जी पिछले दो तीन साल से इसमें पूरी तरह से पारंगत होने लग रही है क्योंकि उन्हें डर है कि बंगाल में शाह मोदी की जोड़ी उनकी सत्ता न छीन जाए और इसी सिलसिले में ममता दीदी एनआरसी और सीएए का विरोध करने के लिए सडको पर उतरी है और अब एक और नया दांव भी चला है.

ममता ने लिखी गैर बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी, एनआरसी न लागू होने देने की अपील
ममता बनर्जी के खुद के पास तो सिर्फ एक अकेला राज्य बंगाल ही है और इसलिए अपनी ताकत बढाने के लिए ममता बनर्जी ने गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों जिनमे कमलनाथ, गहलोत, सोरेन और तमाम मुख्यमंत्री है जो बीजेपी से हटकर दूसरी पार्टी से आते है उनसे कहा है कि वो अपने राज्य में बीजेपी द्वारा लाये जाने वाले इस क़ानून को लागू न होने दे.

ममता बनर्जी खुद भी पहले ही इस बात का ऐलान कर चुकी है कि हम बंगाल में एनआरसी लागू नही होने देंगे और अब वो चिट्ठी लिखकर के बाकी मुख्यमंत्रियों से भी ऐसी ही अपील कर रही है. हालांकि ये भारत के फेडरल स्ट्रक्चर के लोकतंत्र का पूरी तरह से अपमान है क्योंकि नागरिकता के सम्बन्ध में सारे अधिकार केंद्र सरकार के पास में सुरक्षित किये गये है जिसमे राज्य किसी भी तरह से हस्तक्षेप नही कर सकता है तो अब ममता बनर्जी ये सब हरकते किस बिनाह पर कर रही है ये कोई भी नही जानता है.

हाँ इतना जरुर हो सकता है कि राज्य में लॉ एंड आर्डर से लेकर के कार्य आदि सब राज्य की सरकार के हाथ में होता है और अगर वो केंद्र को सहयोग देने में आना कानी करने लगे तो फिर केंद्र अपना काम ठीक तरीके से नही कर पायेगा और ऐसा अक्सर दो अलग अलग पार्टीयो के केंद्र और राज्य में होने पर होता भी है.