अब प्रधानमंत्री मोदी ने नागरिकता क़ानून का विरोध करने वालो को दी ये खुली चुनौती

366

नागरिकता कानून को लेकर के देश भर में इन दिनों में बड़ी ही उथल पुथल हो रखी है. एक तरफ तो इसमें है वो लोग जो कही न कही इसके खुलकर के विरोध में खड़े है और दूसरी तरफ वो लोग है जो इस इसका समर्थन कर रहे है और देश के प्रधानमंत्री तो जाहिर तर पर इसका समर्थन करेंगे ही करेंगे और इस बात में कोई भी दो राय नही है मगर विपक्ष भी कोई कम तगड़ा हमलावर नही रहा है. खुलकर के सडको पर विरोध हो रहा है जिसका जवाब आज प्रधानमंत्री मोदी ने खुद राम लीला मैदान में खड़े होकर के दे दिया.

लोगो को गुमराह करना छोड़े, मेरे किसी भी काम में भेदभाव खोजकर के दिखा दे
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने राम लीला मैदान में तोड़फोड़ भरा प्रदर्शन करने वालो को निशाना बनाते हुए कहा कि ये लोग ड्यूटी करते हुए पुलिस वालो पर पत्थर बरसा रहे है, उन्हें जख्मी करके भला आप लोगो को क्या मिल जाएगा? आजादी के बाद से अब तक 33 हजार पुलिस व् वालो ने इस देश के लिए अपनी जान दे दी. सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल करके हर तरफ झूठ फैलाया जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने चेलेंज किया और कहा लोग कहते है कि मेने भेदभाव किया. वो मेरा कोई ऐसा एक काम खोजकर के दिखा दे जिसमे मेने किसी भी तरह का भेदभाव किया हो? विपक्ष के लोग लोगो को गुमराह करना बंद करे. ये अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिये किस हद तक जायेंगे? इन्होने ये घोर पाप किया है. पीएम मोदी के इस आक्रामक अंदाज के आगे सबकी बोलती कही न कही बंद ही नजर आयी क्योंकि जिस तरह से वो इतने दिनो बाद बोले है उसकी उनके समर्थको को खूब उम्मीद भी थी.

अब ऐसे हालात में देश के पीएम मोदी लोगो को गुमराह होने से बचा पाते है ये फिर नही ये देखने वाली बात होगी क्योंकि लॉ एंड आर्डर की सिचुएशन को तो पूरी सख्ती के साथ में कण्ट्रोल किया जा रहा है और इसमें किसी भी तरह की कोताही नही बरती जायेगी ऐसा साफ़ नजर भी आ रहा है.