नागरिकता संशोधन क़ानून पर जामा मस्जिद के शाही इमाम ने दिया बड़ा बयान

380

भारत की संसद ने हाल ही में एक बहुत ही बड़ा फैसला लिया है जिसकी शायद कई लोगो को तो उम्मीद भी नही थी. नागरिकता संशोधन क़ानून मोदी सरकार ने पास करवा दिया और पूरी सफलता के साथ में करवा दिया वो बड़ी बात है. अब जब इतना सब कुछ हुआ है तो इसके बाद में कही न कही वाद विवाद तो होंगे ही और ये विवाद बढ़ते बढ़ते दिल्ली तक आ पहुंचे. कई बसे और लोगो के प्राइवेट व्हीकल तक तबाह कर दिए गये जिसके बाद में अब जामा जस्जिद के इमाम बुखारी को सामने आना पडा है.

बुखारी ने कहा, इस क़ानून का भारतीय मुस्लिमो से कोई भी लेना देना नही है
जामिया से लेकर सीलमपुर में जब मुस्लिम समुदाय के लोगो ने ख़ास तौर पर तोड़ फोड़ शुरू कर दी तो फिर इमाम बुखारी ने मामले को संभालने के लिए बाहर आकर के बयान दिया कि एनआरसी अभी लागू नही हुआ है और सीएडी जो लागू हुआ है उसका भारतीय मुसलमानों से कोई लेना देना नही है ये तो बाहर के लोगो को नागरिकता देने के लिए है.

बुखारी ने इसके बाद में लोगो से ये कहा कि प्रदर्शन और धरना करना आपका लोकतांत्रिक अधिकार है जिसे आपसे कोई नही छीन सकता लेकिन इसमें नुकसान न पहुंचाए. इसमें भावनाओं को नियंत्रण में रखना बेहद ही जरूरी होता है. ये बात महत्त्वपूर्ण है कि इस पूरे प्रदर्शन को नियंत्रण में रहकर के किया जाये. अब इमाम बुखारी ने इस तरह का स्टेटमेंट किसके कहने पर दिया है ये तो कोई नही जनता मगर ऐसे बयानों पर शक जरुर होता है क्योंकि कभी वो इतनी सॉफ्ट भाषा बोलते नजर नही आये है.

खैर पुलिस लॉ एंड आर्डर को मेंटेन करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. कई लोगो के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गयी है और कुछ को हिरासत में भी लिया गया है और कई लोगो पर जांच चलायी जा रही है जिस पर भी जल्द से जल्द सुनवाई कोर्ट में ही होगी.