जामिया में घुसकर दिल्ली पुलिस ने जो कुछ किया, उस पर अमित शाह का बयान आया है

317

अमित शाह ऐसे व्यक्ति है जिनके स्टेटमेंट के अपने मायने है और कही न कही वो देश के ऐसे पहले गृह मंत्री है जो बिलकुल ही सीधी सपाट बात करते है जिसमे कोई भी घाल मेल नही करते है और इस वजह से कही न कही उनके चाहने वालो की संख्या भी काफी बड़ी है. आपने अभी देखा होगा कि जामिया मिलिया में स्टूडेंट्स ने जो प्रोटेस्ट किया उसके बाद में आम नागरिको को काफी मुश्किलें आये और फिर पुलिस को इस कारण से यूनिवर्सिटी केम्पस में घुसना पड़ा और इसके बाद में मोर्चा संभालना पड़ा.

मैंने पुलिस से कहा, दिल्ली में शान्ति बनाने के लिये जो किया जा सकता है करो
जब अमित शाह से एक मीडिया समूह के इवेंट में सवाल किया गया कि दिल्ली पुलिस इस तरह से यूनिवर्सिटी के केम्पस में घुसी है, छात्रो को पीटा और तमाम बाते हुई इस पर आपको नही लगता उन्हें वाईस चांसलर से बात करनी चाहिये थी? इस पर शाह ने जवाब देते हुए कहा कि पत्थर अगर अन्दर से आ रहे थे आम लोगो को दिक्कत हो रही थी तो पुलिस क्या करती?

लॉ एंड आर्डर मेंटेन करने के लिये पुलिस को जो करना पड़ा था वो किया. ये किससे बात की किससे नही की ये सब बाते हम बाद में डिस्कस कर लेंगे पहले जरूरी है दिल्ली में शान्ति बनाई जा सके और इसके लिये पुलिस से जो हुआ वो उन्होंने किया. अमित शाह ने ये भी कहा कि ऐसे में जो लोग वहाँ पर होंगे उन्हें थोडा बहुत तो झेलना पड़ेगा. मतलब साफ़ नजर आता है कि दिल्ली पुलिस ने जो कुछ भी किया है उसमे शाह की पूरी हामी है और दिल्ली में जल्द ही शान्ति स्थापित हो जायेगी.

एक और इलाके सीलमपुर में भी पिछले चौबीस घंटे में हालात बिगड़े है लेकिन शाह का कहना है कि इसे पुलिस जल्द ही काबू में ले आयेगी, पब्लिक प्रॉपर्टी को डेमेज नही होने दिया जाएगा. जो भी संभव प्रयास है वो सब कुछ किये जायेंगे.