नागरिकता संशोधन बिल पास करवाने के बाद इस काम पर लग गये है अमित शाह

290

अभी हाल ही में अमित शाह ने संसद में जो झंडे गाढे है वो अपने आप में एक माईलस्टोन की तरह देखे जा रहे है. पहले तो तीन तलाक बिल, इसके बाद अनुच्छेद 370, इसके बाद नागरिकता संशोधन बिल के जरिये उन्होंने वाकई में गजब ही तहलका मचाया है जिसकी कोई सीमा ही नही है इस बात में कोई भी संशय नही है मगर अब जब ये बिल पास हो गया है तो फिर आगे के काम पर भी फोकस करना जरूरी है और इस काम अपर फोकस करने के लिये शाह और मोदी लग भी चुके है.

अब यूनिफार्म सिविल कोड लाने की तैयारी में शाह, कभी भी पेश हो सकता है बिल
मोदी सरकार ने इसकी कोई औपचारिक घोषणा तो नही की है लेकिन कहा जा रहा है कि अब जल्द ही संसद में यूनिफार्म सिविल कोड बिल भी पेश किया जा सकता है जिसे भाजपा पास करवाने की स्थिति में भी है. इससे किसी भी धर्म को मिलने वाले विशेषाधिकार खत्म हो जायेंगे जो उसे वरीयता किसी भी गलत मामले में देते है और सबके लिए एक सामान कानून लागू किया जायेगा.

ये अपने आप में काफी ज़्यादा ख़ास भी है क्योंकि इसका इन्तजार राईट विंग से जुड़े हुए लोग तो काफी लम्बे अरसे से कर रहे थे और अब जाकर के उनका इन्तजार खत्म होने ही वाला है. अब संभव है कि या तो इस सत्र को एक्सटेंड करके ये बिल लाया जाये या फिर अगले सत्र में इसे लाया जाये और इसके बाद में सभी नागरिको के अधिकार बिलकुल एक जैसे हो जायेंगे जो अपने आप में एक अच्छी बात भी है मगर इसे लेकर के लोगो के मन में जो भी दुविधाए है उन्हें भी खत्म किया जान बेहद जरूरी है.

शाह ने इससे पहले भी जो कुछ भी बिल पेश किये है उन्हें वो सफलता के साथ में पारित करवा गये और उनका इम्प्लीमेंटेशन भी अच्छे तरीके से हो गया है जो बताता है कि ये वाकई में अच्छी बात है मगर सवाल ये भी तो है कि अगली बार में क्या?