इस साल सोनिया गांधी नही मनाएगी अपना जन्मदिन

62

इस वक्त सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष है और कांग्रेस की अध्यक्ष वो इसलिए बनी है क्योंकि अपनें जिस बेटे को उन्होंने अपनी पार्टी की गद्दी सौंपी थी वो तो उसे ढंग से चला ही नही पाया और कही न कही ये एक कारण भी है कि वो दुबारा से कांग्रेस की अध्यक्ष पद पर लौटी है ताकि पार्टी में फिर से जान फूंकी जा सके और इसमें कितनी कामयाबी मिली है ये किसी को दिखाने की जरूरत भी नही है मगर अभी बात है सोनिया गांधी के जन्मदिन की जिसे उन्होंने इस बार न मनाने का फैसला किया है.

महिला अपराधो के प्रति चिंतित है सोनिया गांधी, नही मनाएगी जन्मदिन
इस 9 दिसम्बर को ही सोनिया गांधी का जन्मदिन है जब वो पूरे 73 साल की हो जायेगी. हर साल सोनिय गांधी के घर पर कांग्रेस दफ्तरों पर उनके नाम के बड़े बड़े केक कटते है और सेलिब्रेशन होता है लेकिन सोनिया गांधी ने इस बार फैसला किया है कि वो महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधो को देखते हुए इस बार अपना जन्मदिन ही नही मनायेगी. कांग्रेस इसे बहुत ही पोजेटिव तरीके से ले रही है और लोगो को दिखा रही है कि उनकी मैडम तो त्याग की मूर्ती है.

वैसे रोष तो पूरे देश में है क्योंकि पिछले लम्बे समय से ये समस्या लोगो के सामने खड़ी हो रखी है जिसमे कभी उनकी इज्जत पर हाथ डाला जाता है तो कभी उन पर एसिड डाला जाता है तो कभी जला तक दिया जाता है और इससे उनक्नी पूरी जिन्दंगी ही खराब हो जाती है अगर वो ज़िंदा बच भी जाती है, हालांकि बच नही पाती है और ऐसे दोषियों के लिए अगर कांग्रेस जैसी उदासीन हो  चुकी पार्टी भी कुछ स्टेप ले रही है तो देश की जनता को सबक लेने की जरूरत है.

खैर सोनिया गांधी के इस स्टेप की दुसरे पार्टी के लोग भी स्वागत के तौर पर ले रहे है क्योंकि इसमें कही पर भी पार्टी पॉलिटिक्स की बात नही है हालांकि उन्नाव मामले में कांग्रेस राजनीति करने का प्रयास जरुर कर रही है.