इस वजह से धरने पर बैठ गयी है बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

87

फ़िलहाल के समय में धरना राजनीति में विरोध का सबसे सही माध्यम बन चुका है और लोग धरना प्रदर्शन आदि सिर्फ इसलिये करते है क्योंकि ये सबसे सटीक माध्यम भी है और इस बात में कोई भी शक नही है मगर कभी आपने सत्ता पक्ष के लोगो को धरने पर बैठे हुए देखा है? अगर नही देखा है तो भी कोई बात नही आज देख लीजिये. दरअसल साध्वी प्रज्ञा जो अक्सर ही विवादों में रहती है और वो एक बार फिर से ऐसे ही एक मसले में फंसती हुई दिखाई दे रही है.

कांग्रेस विधायक ने की थी जलाने की मांग, अब एफआईआर दर्ज कारवाने के लिये धरने पर बैठी
साध्वी जब साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे के समर्थन में संसद में विवादित बयान दिया था तो उसका विरोध करते हुए कांग्रेस के ही मध्यप्रदेश से विधायक गोवर्धन दांगी ने साध्वी को जला तक देने की बात की थी और इसी के खिलाफ केस दर्ज करवाने के लिए साध्वी प्रज्ञा कमलानगर थाने में पहुंची थी जहाँ पर उनकी एफआईआर दर्ज नही की गयी और इसी के विरोध में साध्वी प्रज्ञा धरने पर बैठ गयी है.

साध्वी की मांग है कि कांग्रेस के विधायक पर केस दर्ज हो और उस पर जिस हद तक कानूनी कार्यवाही की जा सकती है वो कार्यवाही भी की जाये. साध्वी प्रज्ञा ने पुलिस पर आरोप लगाये कि उनका पूरा सिस्टम कमलनाथ सरकार के दबाव में काम कर रहा है और इसी कारण से मध्य प्रदेश में कोई भी बहन बेटी सुरक्षित नही है. इस तरह से मध्य प्रदेश में काफी ज्यादा बवाल कटा है और ये सब होना लाजमी सी बात भी है.

खैर इस तरह की राजनीतिक बयानबाजी और दंगल राजनीति में कोई पहली बार तो नही हो रहा है. इस तरह के किस्से अक्सर आम तौर पर देखने में आते ही रहते है और इनसे कही न कही एक चीज जरुर सीखने को मिलती है कि राजनीति में जुबान कब कहाँ किसकी चल जाये कोई कह नही सकता.