शिवसेना मोदी के इस फैसले का पहले करती थी समर्थन, अब कांग्रेस से मिलते ही करने लगी विरोध

226

शिवसेना अपने अप में भारतीय राजनीति के गिरते हुए स्तर का एक बहुत ही बड़ा उदाहरण बन चुकी है जिसने कही न कही दिखाया भी है कि राजनीति में सिद्धांत जैसी कोई चीज नही है आपको बस किसी भी तरह से सत्ता हासिल करनी है. अब वो चाहे धोखा देकर हो या विरोधियो से मिलकर के हो लेकिन आपको करना वही है जो आपको क्षणिक विजय दिला दे क्योंकि अब न सिर्फ शिवसेना कांग्रेस के साथ जा मिली है बल्कि उनके मुद्दे पर भी उनके साथ मिलकर के आवाज उठाने लगी है जो उनके सिद्धांत क्षय का सूचक है.

सोनिया राहुल की एसपीजी सुरक्षा छीनने पर शिवसेना ने जताई चिंता, किया विरोध
अभी गत महीने मोदी सरकार ने गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा छीन ली थी और इस फैसले का पहले शिवसेना ने खुलकर के समर्थन किया था जो हम सभी लोग जानते है लेकिन अब जब कांग्रेस के साथ में शिवसेना का गठबंधन हो गया है तो शिवसेना अपनी ही कही हुई बात से पूरी तरह से पलट गयी है और गांधी परिवार को सुरक्षा दिलाने की फिर से हिमायत कर रही है.

शिवसेना ने केंद्र सरकार से सवाल करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने हाल ही में गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा हटा ली है. क्या सरकार इस बात से पूरी तरह संतुष्ट है कि गांधी परिवार से ख़तरा कम हो गया है? शिवसेना ने सरकार के इस फैसले पर भारी चिंता जताई है और कही न कही उन्होंने इस फैसले पर दुबारा से विचार करने की भी मांग की है. हालाँकि भाजपा ने इस बात पर अब तक किसी भी तरह का जवाब नही दिया है मगर जल्द ही जवाब आ सकता है.

अब शिवसेना जिस तरह से अपनी ही कही बातो से लगातार पलट रही है वो कही न कही संशय भी पैदा करता है कि आखिर ये सब कुछ हो क्यों रहा है? शिवसेना इस हद तक अपने से समझौता कर लेगी कि अपनी जबान तक कि भी कोई कीमत नही रहेगी.