महाराष्ट्र में सरकार बनते ही उद्धव ठाकरे ने ऐसा फैसला लिया, जिससे मुंबई को भारी नुकसान होगा

486

इतने दिनों की कश्मकश के बाद में अब महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे ने सरकार बना ही ली. अब इसके लिए उन्हें चाहे कुछ भी पापड़ बेलने पड़े हो लेकिन सच तो यही है कि उन्होंने कई तिकडम लड़ाकर के ये सत्ता हासिल की है और अब जब सत्ता हासिल कर ली है तो फिर जाहिर तौर पर वो अपने एजेंडे पर काम करेंगे और ये अपने आप में भाजपा विरोधी ही होने वाला है क्योंकि मुख्यमंत्री बनते ही उद्धव ठाकरे ने फैसला ही ऐसा लिया है जिसकी उम्मीद तक नही की जा रही थी.

उद्धव ठाकरे ने मेट्रो शेड का काम रूकवाया, ट्रांसपोर्ट विकास पूरी तरह बाधित
उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री बनते ही सबसे पहले आरे जंगल के एक हिस्से में बन रहे मेट्रो शेड का काम तुरंत प्रभाव से रूकवा दिया है. ये शिवसेना के एजेंडे में था जबकि बीजेपी इस मेट्रो के निर्माण से मुंबई में कनेक्टिविटी का एक नया आयाम देना चाहती थी. इससे लोगो का बसों में धक्के खाने और रिक्शा में फंसकर ट्राफिक में अटक जाने वाला समय बचता.

समय रहते अगर इस मेट्रो शेड का निर्माण हो जाता और पूर्ण रूप से मुंबई मेट्रो का परिवहन यहाँ से शुरू होता तो फिर इससे लाखो लोगो को फायदा होता और रोजाना लाखो की संख्या में लोग आसानी से घर पहुँच पाते लेकिन राजनीति की भेंट चढ़े अब इस शेड के काम को न जाने कब शुरू किया जा सकेगा और क्या पता इसके रूट में परिवर्तन किये जाए क्योंकि इसमें भी कही न कही मराठा राजनीति की जा रही है कि इसके निर्माण में उनकी बस्तियों को नुकसान हो सकता है. फिर ऐसे में सिर्फ एक क्षेत्र से प्यार करने वाली पार्टी कैसे एक आर्थिक राजधानी को संभाल पायेगी और उसका विकास कर पायेगी?

सूत्र ये भी बताते है कि महाराष्ट्र की सरकार जो 25 प्रतिशत पैसा बुलेट ट्रेन के लिये देने वाली थी उससे भी उद्धव ठाकरे पल्ला झाड़ने वाले है जिससे देश में बुलेट ट्रेन का सपना भी दूर हो जाएगा. अब पुराने दोस्तों ने भी वो काम कर दिये जो बरसो के दुश्मन न कर पाये.